राजस्थान एनआरएचएम यूनियन वेबसाइट में आपका हृदयपूर्वक स्वागत हैं

email id - nrhm.rajasthan.union@gmail.com

राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन

  

''ममतामयी माँ काली की जय "/ " हारे के  सहारे की जय "/ "खाटू वाले नरेश की जय " 


इस वेबसाइट में लोगों की निरीक्षण संख्या

संविदा प्रथा एक केन्सर के समान है व आधुनिक भारत में गुलाम बनाने की घिनोनी प्रथा है

ताजा खबर अप्रेल 2015 :-

 दिनांक 21/12/2015 - यूनियन ने की स्वास्थ्य मंत्री जी से वार्ता : इसी माह में भर्ती पूरी होने का किया दावा।

आज सुबह राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन के एक प्रतिनिधि दल ने ब्रह्मप्रकाश जी, महेंद्र कुड़ी जी, संदीप जी, सुरेन्द्र मोरवाल जी, अब्दुल सलाम जी, रवि वर्मा जी, दीपक जी, उषा जी, निशा जी की अध्यक्षता में सुबह स्वास्थ्य मंत्री जी के आवास पर उनसे मुलाक़ात की।
इस बार विशेष रूप से महिलाओ ने वार्ता का क्रम शुरू किया। उनका कहना था की हर बार की तरह इस बार भी यदि समय पर (इसी माह में) नियुक्ति लिस्ट जारी नहीं की गयी तो यह भर्ती हर हाल में फिर से कोर्ट में फस जायेगी।

मंत्री जी ने फ़ोन पर अति. निदेशक (प्रशासन) से वार्ता कर इसी माह में नियुक्ति देने हेतु आश्वस्त किया।

इसी प्रकार के आश्वासन पिछले लंबे समय से हमे प्राप्त हो रहे हैं। ज्ञात हो की फरवरी 2013 में विज्ञापित भर्ती को पूरा करने के लिए 1 वर्ष बाद फरवरी 2014 में विशाल जन आंदोलन किया गया था। उस समय तत्कालीन अति. निदेशक (प्रशासन) का चार्ज संभाल रहे आईएएस नीरज के. पवन जी ने आंदोलन से पूर्व व आंदोलन के दौरान चुटकी बजाते हुए तीन दिन में नियुक्ति देने का दावा किया था। उसी समय स्वास्थ्य मंत्री जी ने भी एक नर्स बहन के सर पर हाथ रख कर कसम खाते हुए एक माह में भर्ती पूरी करने की जबान दी थी।
हम संघर्षरत साथियो की मेहनत पर शक नहीं कर रहे हैं वरन उनके द्वारा जयपुर आ कर किये जा रहे जमीनी प्रयासों का अहसान मानते हुए सरकार की मंशा पर सन्देह व्यक्त कर रहे हैं।
जितनी प्लानिंग के साथ यह राजनीतिज्ञ चुनाव लड़ते हैं सीट हासिल करते हैं उससे कई हजार गुना कम प्लानिंग से यदि कार्य किया जाये तो आज से एक हफ्ते बाद इस भर्ती में नियुक्ति दे दी जाये।

हम सभी अभ्यार्थियों को फिर से चेतावनी देना चाहते हैं की यदि 23 दिसंबर तक लिस्ट जारी नहीं होती हैं तो किसी का ज्वाइन करना संभव नहीं होगा।
यही समय हैं जागने का और सरकार को जगाने का वरना     फिर से   .........  तारीख पर तारीख ......... तारीख पर तारीख।

सुचना स्त्रोत - देवाराम चौधरी, प्रदेश अध्यक्ष, राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन।

निवेदक - जागो नर्सेज परिवार।
www.jagonurses.com


दिनांक 19/12/2015 - जल्द भर्ती पूरी कराने की माँग को लेकर सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री जी से मिलेगे नर्सेज।

जल्द भर्ती पूरी करने की माँग को लेकर सोमवार को स्वास्थ्य मंत्री जी से मिलेगे नर्सेज।
राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोशियेशन एवं एसएमएस मेडिकल कोलेज जयपुर के संविदा नर्सेज सोमवार को दिनाक 21/12/2015 को सुबह 6.30 बजे चिकित्सा एव स्वास्थ्य मंत्री महोदय के सिविल लाइन्स आवास पर उनसे मिलेगे।

मांग- नर्सेज भर्ती इसी माह में पूरी करने बाबत।
मिलने की जिम्मेदारी - जयपुर प्रथम cmho, जयपुर द्वितीय cmho, एसएमएस मेडिकल कॉलेज, महिला चिकित्सालय जयपुर, जे. के.लोन चिकित्सालय जयपुर, जनाना चिकित्सालय जयपुर, गणगौरी चिकित्सालय जयपुर से जुड़े सभी संविदा नर्सेज जो इस भर्ती को इसी माह में पूरा करवाने की उम्मीद रख कर बैठे समस्त नर्सेज की हैं। इसके अलावा फ्रेशर जिनका इस भर्ती से व्यक्तिगत हित जुड़ा हुआ हैं वो भी पहुचे। यह सभी का कर्तव्य बनाता हैं।

जिनके नेतृत्व में मिलेगे -
अब्दुल सलाम - 8560835849
रोहिताश चोधरी - 9549386448
दिलीप - 9694375704
जिशान - 9001105199
मुकेश नाइ - 7688835104
दीपक मीणा - 7597071270
ब्रहम प्रकाश - 9829578606 
राघव प्रताप सिंह - 9829199956 
महेंद्र कुड़ी - 9414773773 
संदीप चौधरी - 9828350002 
रवि - 9950601849
राजवीर - 9468906803
दीपक - 7597071270
मनीष - 9950186293
मनोज - 9887126796
नगेंद्र - 9414744876
कैलाश शर्मा - 9828733733
योगेश गुर्जर - 9414635767
मोनू वर्गीश - 8562020987

इसके अलावा सभी संविदा नर्सेज जो इस भर्ती को पूरा करने के लिए सार्थक प्रयास करना चाहते हैं वो सभी अपना कर्तव्य समझ कर मिले।

इसके बाद - राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष देवाराम चौधरी के नेतृत्वव में बड़ी संख्या में सभी जिलो के नर्सेज का कार्यक्रम इसके बाद जल्द ही तय किया जाना हैं जिसकी तिथि 1 - 2 दिनों में ही सार्वजानिक कर दी जायेगी।
जिन जिलो में मंत्री जी जाये वहाँ अपना कर्तव्य समझ कर मिलते रहे नर्सेज जब तक भर्ती पूरी नही हो तब तक लगातार दबाव जरुरी हैं।

आराम से ना बैठे जोर लगते रहे क्यों की ....... 
पिक्चर अभी बाकी हैं ... मेरे दोस्त।

सुचना स्त्रोत - देवाराम चौधरी, प्रदेश अध्यक्ष, राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन।


दिनांक 29/09/2015 - हट गया स्टे : एक हफ्ते में भर्ती होगी पूरीl

आज की सुनवाई के लिए यूनियन ने तथ्यों को संकलित कर अपने वकील के माध्यम से कोर्ट में पहुचायाl यूनियन के पदाधिकारी भर्ती के केस अधिकारी दुत्तड जी के साथ जयपुर से जोधपुर तक गए और उनसे  कोर्ट में उत्साही पैरवी करने के लिए मनाया इसके अतिरिक्त अतिरिक्त महाधिवक्ता के. एल. ठाकुर जी जो की बिना आर्डर के ही आज तक अपने केस की पैरवी करते आ रहे थे कल के पूरे दिन के प्रयासों के बाद उनका आधिकारिक आर्डर बनवाया जिसमे यूनियन के प्रदेश महामंत्री राघव प्रताप सिंह जी एवं ब्रहम प्रकाश जी की महत्वपूर्ण भूमिका रही l जिस से इस केस को लड़ने की एवज में के. एल. ठाकुर जी को अब निश्चित रूप से सरकार द्वारा भुगतान किया जा सकेगाl इस प्रकार के प्रयासों से आज ना सिर्फ भर्ती पर लगा स्टे हटा बल्कि कोर्ट ने सरकार को यह भर्ती पूरी करने के लिए चार सप्ताह का टाइम दिया हैंl इसके अतिरिक्त भर्ती से जुडी सभी याचिकाओ को ख़ारिज करते हुए निम्न निर्णय लिए गए -
  • राजस्थान के अतिरिक्त राज्यों को अनुभव के बोनस देना अनिवार्य नहीं हैंl
  • भर्ती की मेरिट पूर्णांक के आधार पर नहीं बल्कि प्रतिशत के आधार पर बनती हैं इसलिए पूर्णांक का भिन्न होना कोई मायने नहीं रखते हैंl
  • सरकार को चार सप्ताह में यह भर्ती पूरी करनी चाहिए l
इस फैसले के बाद भर्ती के केस अधिकारी दुत्तड जी ने यूनियन से कहा की वह एक सप्ताह में ही इस भर्ती को निपटा देंगे l इस फैसले के बाद यूनियन ने अपने वकील के साथ मिल कर इस भर्ती के लिए जोधपुर उच्च न्यायालय में एक केवीएट भी दायर कर दी जिस से अब इस भर्ती पर स्टे देने से पूर्व जोधपुर उच्च न्यायालय विभाग का पक्ष भी सुनेगाl
राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष देवाराम चौधरी, कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष मनफूल चौधरी, प्रदेश महामंत्री राघव प्रताप सिंह, ब्रह्म प्रकाश जी, अर्जुन मेघवाल, निरंजन सिंह, नरेश (पाली), कैलाश (पाली), रामावतार चौधरी, राजेन्द्र यादव सहित अन्य साथी आज उच्च न्यायालय, जोधपुर में ही उपस्थित थे जिन्होंने केस के फैसले के आते ही कोर्ट में जश्न का माहौल बना दियाl
राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोशियेशन द्वारा के एल ठाकुर व उपनिदेशक प्रताप सिंह दुतर का स्वागत किया जिन्होंने 2082 नर्सेज भर्ती का रास्ता साफ कर हजारो अभ्यार्थियों को राहत लेने का मौका दिया।

दिनांक 26/09/2015 - आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारियो की जोइनिंग लिस्ट जारी : कब होगी अन्य कैडर की भर्ती l

आज आयुर्वेद विभाग द्वारा आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारियो की जोइनिंग लिस्ट जारी कर दी गयीl बहुत ख़ुशी की बात हैं की लम्बे समय से जोइनिंग की बाट जोह रहे आयुष चिकित्सक एक एक कर के नियमित नियुक्ति पाते जा रहे हैं l
इसी प्रकार लम्बे समय से नियुक्ति की बात जोह रहे संविदा नर्सेज समेत अन्य कैडर के लोगो का भविष्य आज भी सरकार ने आधर में लटका कर रखा हैंl लिस्ट ऐसी बन रही हैं की पूरी ही नहीं होती और यदि कभी गलती से पूरी हो जाये तो खुद अधिकारी उसमे कोई कमी निकाल कर उसमे संशोधन करने में लग जाते हैं और तब तक संशोधन करते हैं जब तक की भर्ती की प्रक्रिया में काफी फेर बदल ना हो जाये और फिर बारी आती हैं परिवेदनाओ कीl और एक अंतहीन सिलसिला ही चल पड़ता हैंl यह सिलसिला तब तक लगातार चलता हैं जब तक की भर्ती कोर्ट में ना अटक जायेl
...................................... लगता नहीं की सरकार भर्ती करना चाहती हैं l
और जितने लोग स्ट्राइक करने के लिए कहेंगे ........... लगता नहीं की धरना स्थल तक उनका कभी पधारना भी होगा l

दिनांक 23/09/2015 - क्या हैं सरकार का अगला कदम : क्या होना चाहिए अपना अगला कदम।

सरकार का अगला कदम :-
राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन के प्रदेश महामंत्री राघव प्रताप सिंह जी एवं ब्रह्म प्रकाश जी ने प्रतिनिधि दल के रूप में कल भर्ती के सम्बन्ध में भर्ती अधिकारी अतिरिक्त निदेशक (प्रशासन) श्याम लाल गुर्जर जी से मुलाक़ात की।
इस बार यूनियन की मुलाक़ात श्याम लाल जी से कुछ अलग प्रकार की हुई। राघव जी ने अतिरिक्त निदेशक जी से कहा की यूनियन सरकार की नियत को भांप कर पहले ही अल्टीमेटम दे चुकी हैं।
अब कोर्ट में सरकारी वकील ही सरकार का पक्ष उजागर करता हैं। यदि वो कोर्ट में उदासीनता दिखता हैं तो इसका मतलब यह हैं की सरकार ही इस भर्ती के लिए उदासीन हैं। 21 सितम्बर की सुनवाई के बाद यूनियन से जुड़े लोगो ने सरकारी वकील के. एल. ठाकुर को घेर लिया और उनसे कहा की आपके इस प्रकार के बर्ताव से तो भर्ती ख़ारिज हो जायेगी तब के. एल. ठाकुर जी ने कहा की इससे मुझे क्या फ़र्क़ पड़ता हैं। फिर भी यदि किसी प्रकार भर्ती से स्टे है भी जाता तो आप इस भर्ती को पुनः प्रोविजनल लिस्ट, परिवेदना में अटका दोगे। तब तक भर्ती पुनः कोर्ट में फस जायेगी।
आपके प्रयास भी भर्ती को पूरा करने की दिशा में दिखाई नहीं दे रहे हैं।
यदि आपकी भर्ती करने की मंशा होती तो चिकित्सको के अतिरिक्त किसी की तो भर्ती की गयी होती। आपके द्वारा खड़ा किया गया पैनल कोर्ट में कोई जवाब नहीं देता। पुष्पेन्द्र सिंह भाटी जी के आर्डर जारी होने के बाद भी कभी कोर्ट नहीं पहुचे। यदि वो कोर्ट में चले भी जायेंगे तब भी कोई फ़र्क़ नहीं पड़ेगा क्यों की प्रतिपक्ष से उनकी पत्नी नुपूर भाटी जी केस लड़ रही हैं।
ऐसे में सम्पूर्ण संविदा नर्सेज यूनियन से सिर्फ स्ट्राइक की ही मांग कर रहे हैं। अब यूनियन का भी सरकार पर कोई भरोसा नहीं बचा हैं। ऐसे में यदि हम मौसमी बीमारियो के समय स्ट्राइक की घोषणा करते हैं तो पूरे प्रदेश में कोहराम मच जायेगा और उस अव्यवस्था की पूरी जिम्मेदारी यूनियन की नहीं बल्कि सरकार की होगी।
प्रत्युत्तर में अतिरिक्त निदेशक जी ने कहा की आपका संशय करना उचित हैं परन्तु यह सही नहीं हैं। सरकार और खुद मुख्य मंत्री कार्यालय यह चाहता हैं की भर्ती पूरी हो और इसके लिए हमारे द्वारा लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। मुझसे सरकार इस भर्ती को पूरा करवाने की उम्मीद रख रही हैं। इस भर्ती को पूरा करना मेरे लिए बहुत जरूरी हैं चाहे इसके लिए कुछ भी करना पड़े।
यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष देवाराम चौधरी ने भी फ़ोन पर अतिरिक्त निदेशक जी को असंतोष जाहिर किया और कहा की अब संविदा नर्सेज ऐसी परिस्थिति में हैं की ना जीवित हैं ना ही मृत हैं ऐसे में सरकार को संविदा नर्सेज के आक्रोश का सामना करना ही पड़ेगा।
29 सितम्बर की सुनवाई ही सरकार का आखिरी मौका हैं इसके बाद यूनियन सब्र नहीं करेगी। इस सुनवाई में अतिरिक्त  निदेशक श्याम लाल गुर्जर जी, दुत्तड़ साहब को स्वयं उपस्थित होना चाहिए वरना यह भर्ती कभी नहीं होगी। देवाराम जी ने श्याम लाल जी से कहा की आपके जोधपुर आने जाने व रहने का प्रबन्ध यूनियन की तरफ से हो जायेगा बस आप इस सुनवाई में शामिल होइए और भर्ती पर लगा स्टे हटवा कर तुरन्त जोइनिंग दे दो।
इस प्रस्ताव पर अत. निदेशक जी ने कहा की इस प्रकार के प्रबन्ध सरकार द्वारा कर लिए जायेंगे और में सुनवाई में शामिल होऊंगा।
क्या होना चाहिए अपना अगला कदम :-
सिर्फ और सिर्फ आंदोलन की तैयारी करे पर पिछले आन्दोलनों में असफलता देने वाले कारको का समाधान करने के पश्चात ही आंदोलन का आगाज़ किया जाये तो सफलता सुनिश्चित होगी।
स्ट्राइक का ओचित्य :-
स्ट्राइक करने से सरकार पर दबाव बनेगा और सरकार को भर्ती पूरी करनी पड़ेगी।
स्ट्राइक के दौरान सरकार की प्रतिक्रिया :- इसके लिए सरकार प्रत्येक जिले के जिला प्रभारी को लिखित आदेश देती हैं की वे प्रतिदिन स्ट्राइक के कारण जिले की स्वास्थ्य सुविधाओ पर पढ़ने वाले प्रभाव की रिपोर्टिंग करे इसके अतिरिक्त एक और आदेश सरकार द्वारा जारी किया जाता हैं जिसमे किसी भी कारण विशेष से चिकित्साकर्मी के अवकाश को स्वीकृत ना करने की हिदायत होती हैं। इसके अतिरिक्त स्ट्राइक पर जाने वाले संविदा कर्मियो की सेवा समाप्त करने की हिदायत भी दी जाती हैं।
मौखिक रूप से सरकार प्रत्येक जिला प्रभारी को यह सूचित कर देती हैं की किसी भी हालत में यह बयान जारी ना करे की जिले की स्वास्थ्य व्यवस्था बिगड़ गयी हैं। सिर्फ यही बयान जारी करे की "जिले की स्वास्थ्य सुविधाओ पर किसी भी प्रकार का बुरा प्रभाव नहीं पड़ा हैं तथा वैकल्पिक व्यवस्थाओ द्वारा स्वास्थ्य सुविधाये सुचारू रूप से चल रही हैं।
स्ट्राइक की असफलता का कारण :-
लगभग सभी संविदाकर्मी हताशा में स्ट्राइक करना चाहते हैं परन्तु स्ट्राइक के दौरान वे ही लोग धरना स्थल तक नहीं आते प्रदेश स्तरीय धरने की बात करे तो हालात और भी ज्यादा बदतर हो जाते हैं।
जब लोग अपने जिले के धरना स्थल पर ही रोजाना पूरे दिन नहीं बैठ सकते तो जयपुर तक आना तो उनके लिए वैसे ही असंभव सा हैं।
जिले से विभाग को जाने वाली रिपोर्ट में भी स्वास्थ्य सेवाओ में आ रही बाधा का उल्लेख नहीं होता।
स्ट्राइक की सफलता हेतु उपाय :-
वे लोग जो सिर्फ इन्टरनेट पर ही सक्रीय हैं ऐसे लोगो को स्ट्राइक की कार्य योजना से दूर रख कर ऐसे लोगो के साथ योजना बनाई जाये जो हमेशा धरने पर उपस्थित रह कर प्रभावशाली योगदान देते हैं।
राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष मनफूल पूनिया जी प्रत्येक जिले से ऐसे लोगो को चिन्हित करे जो जिला/प्रदेश स्तरीय धरने पर उपस्थित रहने की क्षमता रखते हो, इसके अतिरिक्त ऐसे लोगो को भी चिन्हित किया जाना चाहिए जो यह क्षमता रखते हैं और आगामी धरने पर उपस्थित रह सकते हैं।
शेष लोग तो पूरी स्ट्राइक के दौरान नज़र भी नहीं आएंगे पर धरना स्थल का जोश हमारी मांग को समाज व मीडिया में बनाये रखेगा।
स्ट्राइक के दौरान ड्यूटी करने वाले संविदा नर्सेज को उनके घर जा कर या रास्ते में रोक कर उन्हें "प्रेम" से समझाया जाये।
सिर्फ उन लोगो को इकठ्ठा करे जो धरना स्थल पर डटे रह सकते हैं। वही लोग काम आएंगे।

दिनांक 22/09/2015 - आज कल में जारी की जा सकती हैं दन्त तकनीशियन की लिस्ट : अन्य कैडर भी हैं कतार मेंl

आज राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन के प्रदेश महामंत्री राघव प्रताप सिंह एवं ब्रह्म प्रकाश जी के नेतृत्व में यूनियन के प्रतिनिधि दल ने भर्ती अधिकारी अतिरिक्त निदेशक (प्रशासन) श्याम लाल गुर्जर जी मुलाकात कीl
उनसे नर्सेज भर्ती के सम्बन्ध में बहुत महत्वपूर्ण बाते हुई जिनका विस्तृत उल्लेख आज हम अपने अगले लेख में करेंगे l
प्राप्त जानकारी के अनुसार आज या कल में दन्त तकनीशियन की लिस्ट जारी की जा सकती हैंl जिसके 1-2 दिन बाद रेडियोग्राफर एवं लैब तकनीशियन की लिस्ट जारी की जा सकती हैंl
इसके अतिरिक्त 28 सितम्बर को एएनएम की लिस्ट भी जारी की जा सकती हैंl उपरोक्त सम्भावनाये अतिरिक्त निदेशक महोदय (प्रशासन) के द्वारा प्राप्त जानकारी के आधार पर लगाई जा रही हैंl
सुचना स्त्रोत - राघव प्रताप सिंह, प्रदेश महामंत्री, राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशनl

दिनांक 22/09/2015 - कल कोर्ट में आई अड़चन : सरकार अटका सकती हैं भर्ती।

साथियो कल कोर्ट मे काफी बहस हुई जिसमे बाहरी राज्य वालो को बोनस अंक और नर्सिंग के प्राप्तांको को लेकर और भी काफ़ी मुद्दो पर चर्चा हुई। लेकिन जज साहब नर्सिंग प्राप्तांक के मुद्दे पर सन्तुष्ट नही हुए और समय अभाव के कारण अगली सुनवाई के लिए तारिख 29 सितम्बर दे दी गईl
मुद्दा यह था की कुछ नर्सेज के पूर्णांक 1300 हैं जबकि अन्य के 1900 तो भर्ती के विरोध में वकील का कहना था की इस प्रकार की विभिन्नता में सरकार द्वारा ऐसी क्या व्यवस्था की गयी हैं की भर्ती में सभी अभ्यर्थियों को समान अवसर प्राप्त हो। इसका बहुत ही साधारण सा यह जवाब था की भर्ती पूर्णांक या प्राप्तांक के आधार पर नहीं बल्कि प्रतिशत के आधार पर की जा रही हैं। परंतु इस जवाब को लम्बा खेच कर कुछ दस्तावेजो के साथ प्रस्तुत किया जाना था।
यह एक बेतुकी सी आपत्ति थी पर मानना पड़ेगा कैलाश जांगिड़ को। ऐसे बेतुके टॉपिक पर भी क्या लगातार बोलते रहे वो।
और मानना भी पड़ेगा के. एल. ठाकुर साहब को जो इस बेतुकी सी आपत्ति का भी कोई संतोषप्रद जवाब नहीं दे पाये।
प्राइवेट वकील बेचारा सिर्फ दलील ही दे पाया परंतु अदालत में सरकार की और से दस्तावेज प्रस्तुत करने का काम तो सरकारी वकील को ही करना था।
कैलाश जांगिड़ ने अपनी तैयारी से कोर्ट को प्रभावित किया और इस भर्ती को फिजूल सी बातो से ही लटका दिया। कैलाश जांगिड़ जी का इरादा कल भर्ती पर स्टे को बनाये रखने का था जिससे की भर्ती की अगली सुनवाई रूटीन जज संदीप जी की बैंच में ले जाई जा सके और वो इसमें पूर्णतः कामयाब भी रहे।
अब यदि अगली बार इस मुद्दे का तोड़ तैयार भी कर लिया गया जो की बहुत आसान भी हैं तब भी अगली सुनवाई में कैलाश जांगिड़ जी 108 या बाहरी राज्यो के मुद्दे को तूल देंगे।
निश्चित रूप से कैलाश जांगिड़ को फ़ालतू सी बात पर स्टे बनाये रखने का श्रेय सरकार को ही दिया जा सकता हैं जिन्होंने कोर्ट में पैरवी के लिए के. एल. ठाकुर जी को मौन रहने के लिए निर्देशित किया हैं।
चाहे कोर्ट हो या हड़ताल भर्ती तो तभी होगी जब सरकार भर्ती करना चाहेगी।

दिनांक 20/09/2015 - फार्मासिस्ट की अंतिम वरीयता सूचि हुई जारी l

विभाग द्वारा फार्मासिस्ट की अंतिम वरीयता सूचि जारी की जा चुकी हैं l इसी प्रकार शीघ्र ही एएनएम की सूचि का प्रकाशन शीघ्र ही किये जाने के लिए यूनियन प्रयासरत हैं l

क्रमांक:-नर्सिग/फार्मा-1209/(सीधी भर्ती-2013)/2015/306 दिनांक 19.09.2015

फार्मासिस्‍ट के पद की अंतरिम वर्गवार वरीयता सूची। http://rajswasthya.nic.in/306%20dt%2019.09.2015-list%20website.pdf

दिनांक 19/09/2015 - जारी की जा सकती हैं फार्मासिस्ट की प्रोविजनल सूचि : इसके बाद सम्भव हैं एएनएम की सूचि का प्रकाशन l

आज राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन के प्रदेश महामंत्री राघव प्रताप सिंह जी एवं ब्रह्म प्रकाश जी के नेतृत्व में भर्ती अधिकारियो से ली गयी जानकारी में विभाग ने यह स्पष्ट किया हैं की आज कल में ही फार्मासिस्ट की प्रोविजनल सूचि जारी की जा सकती हैंl
इसके अतिरिक्त यूनियन द्वारा लम्बे समय से ठप्प पड़ी नर्सेज भर्ती को पुनः जीवित करने के लिए फिलहाल कोर्ट के विवाद से दूर एएनएम की जोइनिंग की मांग की जाती रही हैं जिसके प्रत्युत्तर में विभाग ने आज स्पष्ट किया की फार्मासिस्ट की लिस्ट जारी होने के बाद एक हफ्ते में ही एएनएम की सूचि भी जारी कर दी जाएगी l

दिनांक 18/09/2015 - आज नहीं हुई केस की सुनवाई : अगले कार्य दिवस को ली तिथि

आज अपना केस 142 न. पर था परन्तु समयाभाव के कारण कोर्ट में सिर्फ 130 केस पर ही सुनवाई हो सकी। अंतिम क्षणों में अपने केस की अगली सुनवाई के लिए यूनियन के वकील ने अगले कार्य दिवस की तिथि ले ली।
अब अगली सुनवाई इस सोमवार को दिनांक 21/09/2015 को होगी।
आज की सुनवाई के लिए वकील त्रिलोक जोशी जी काफी आश्वस्त थे। अतिरिक्त महाधिवक्ता के. एल. ठाकुर जी आज सुबह ही कोर्ट में प्रवेश करने के पश्चात एक बार भी कोर्ट से बाहर नहीं आये।

दिनांक 16/09/2015यूनियन के वकील ने बचाई भर्ती : 18 सितम्बर को होगा विपक्ष से घमासान।

आज की सुनवाई में याचिकाकर्ता के वकील कैलाश जांगिड़ जी ने इस भर्ती को उलझाने के पूरे प्रयास किये। जवाब में सरकारी वकील के. एल. ठाकुर हल्की पैरवी कर रहे थे जिनके साथ देते हुए यूनियन के वकील त्रिलोक जोशी जी ने भर्ती पूरी करने के पक्ष में मजबूत दलीले दी।

याचिकाकर्ता के वकील कैलाश जांगिड़ युवा जोश के साथ पैरवी कर रहे हैं जिसके जवाब में के. एल. ठाकुर जी अपने अनुभव का दम नहीं दिखा रहे थे परन्तु उनका साथ देते हुए यूनियन के वकील त्रिलोक जोशी जी ने गरमजोशी के साथ इस केस को महत्वहीन साबित करने की कोशिश की।

त्रिलोक जोशी जी की बहस सुन कर याचिकाकर्ता के वकील ने जज से अनुरोध किया की त्रिलोक जोशी जी को बहस नहीं करने दी जाये। जज महोदय ने उन्हें इस केस से सम्बंधित मानते हुए बहस करने का अधिकार दिया। कैलाश जांगिड़ जी ने अगली सुनवाई के लिए दिसम्बर माह की तिथि मांगी जिस पर यूनियन के इस केस को महत्वहीन साबित करते हुए परसो 18 सितम्बर को ही इस केस की सुनवाई किये जाने की पैरवी की।

अगली पूर्व निर्धारित सुनवाई 18 सितम्बर में देवाराम चौधरी बनाम राज्य सरकार  को पार्टी बनाया गया हैं। अगली सुनवाई में त्रिलोक जोशी जी सरकारी वकील के साथ मिलकर इस केस की करेगे पैरवी कोर्ट सख्या 11 में आईटम सख्या 71 पर होगी।

सुनवाई का क्या फैसला होता हैं यह तो अपने नसीब और जज साहब पर ही निर्भर करता हैं पर यूनियन अपने प्रयासों में किसी भी प्रकार की कोई कसर नहीं छोड़ने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

यूनियन के निजी वकील त्रिलोक जोशी जी यह उम्मीद कर रहे हैं की अगली ही सुनवाई में 18 सितम्बर को ही इस भर्ती की राह साफ़ हो जानी चाहिए।


दिनांक 15/09/2015यूनियन के सार्थक प्रयास : नियुक्ति सरकार व किस्मत पर निर्भर।
सभी साथियो से निवेदन हैं की वे दुआ करे की 16 सितम्बर व 18 सितम्बर को होने वाली सुनवाई में कोर्ट से भर्ती को क्लीन चिट मिल जाये।
राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोशियेशन की पूरी टीम अच्छा प्रयास कर रही है। नर्सेज की टीम ने 31 अगस्त और 14 सितम्बर को दो बार मंत्री जी और अधिकारियो से मिलकर कोर्ट क्लीन चिट लेने व संशोधित चयन सूची की बजाय पदस्थापन के साथ नियुक्ति आदेश जारी कराने का निवेदन किया है।
कोर्ट मामले में यूनियन ने निजी वकील भी किया है जो सरकारी वकील के उदासीन रहने पर भर्ती को क्लीन चिट दिलवाने के लिए कोर्ट में मजबूत पैरवी करेंगे।
चलो प्रयास तो जारी है जिसमे कोई दो राय नही हैं परन्तु परिणाम तो आने वाला कल ही बताएगा जो की सरकार की मंशा एवं किस्मत पर निर्भर करता है।

 
दिनांक 14/09/2015सरकार को दिया अल्टीमेटम : यूनियन तो आन्दोलन के लिए तैयार हैंl …….. और आप ????????
राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष मनफूल पूनिया जी एवं प्रदेश महामंत्री राघव प्रताप सिंह  जी के नेतृत्व में ब्रह्म प्रकाश व अन्य पदाधिकारियो ने आज सुबह चिकित्सा मंत्री जी के आवास पर मुलाकात कर उनसे कोर्ट में पैनल खड़ा कर भर्ती से स्टे हटवा कर अधिक से अधिक पदों पर जल्द भर्ती करने का निवेदन किया गया।
जिसमे मंत्री जी ने अति. निदेशक (प्रशासन) श्याम लाल गुर्जर को फोन कर हर हालात में 16 तारीख को कोर्ट से मामला निपटा कर जल्द भर्ती करने को कहा, साथ ही मंत्री जी ने अतिरिक्त महाधिवक्ता के.एल.ठाकुर साहब को फोन कर 16 तारीख को हर हाल में कोर्ट से भर्ती पर लगी रोक हटवा कर क्लीन चिट लेने के बोला गया l  मंत्री जी ने कहा की अबकी बार कोर्ट से पैनल खड़ा कर भर्ती से स्टे हटा कर ये भर्ती जल्दी पूरी कर ली जायेगी l  साथ ही यूनियन ने मंत्री जी को भर्ती जल्दी पूरी नही होने की सूरत में अल्टीमेंटम देकर उनको भर्ती जल्दी पूरी नही होने पर आंदोलन की चेतावनी दी।
यूनियन ने बाद में अति. निदेशक (प्रशासन) श्याम लाल गुर्जर जी से मुलाकात कर कोर्ट में वकीलों का पैनल खड़ा करने और भर्ती अधिकतम पदों पर पूरा करने के लिए कहा गया, साथ ही भर्ती जल्द पूरी नही होने की सूरत में यूनियन द्वारा आंदोलन का अल्टीमेटम दिया गया l
जिसमे अति. निदेशक (प्रशासन) श्याम लाल गुर्जर ने यूनियन को कोर्ट में पैनल खड़ा करने के आदेश बताते हुए कहा की 16 तारीख की सुनवाई में अबकी बार अतिरिक्त महाधिवक्ता पुष्पेन्द्र सिंह जी भाटी कोर्ट में जायेगे l इस प्रकार सरकार ने कोर्ट स्टे हटने की पूरी उम्मीद जताई हैं और कोर्ट से क्लीन चीट मिलते ही भर्ती पूरी कर दी जायेगी ।
आज यूनियन ने कोर्ट में पैनल खड़ा करवाते हुए पूर्ण कोशिश  की है की 16 तारीख जोधपुर हाई कोर्ट से क्लीन चिट मिल जाये साथ क्लीन चिट मिलने के बाद भर्ती अधिकतम पदों जल्दी से जल्दी हो उसके लिए मंत्री जी और अति डायरेक्टर से मांग की गयी।
अब 16 तारीख को जोधपुर हाई कोर्ट में पुष्पेन्द्र सिंह भाटी जी , के.एलठाकुर जी, राजेश पूनिया जी , अब्दुल अहमद खान जी , त्रिलोक जोशी जी आदि वकील साहब कोर्ट से क्लीन चिट लेने के पूर्ण कोशिश करेंगे l

यदि अबकी बार भी मन्त्री जी द्वारा अपने साथ धोका होता है और भर्ती जल्दी अधिकतम पदों पर नही होती है तो साथियो आंदोलन के लिए कमर कस ले क्यू की यूनियन ने अल्टीमेंटम तो दे ही दिया है साथियो यूनियन जब भी आंदोलन के लिए बोले तैयार रहे अब आर या पार।

दिनांक 13/09/2015कल सोमवार को सभी साथी जयपुर पहुचे : आन्दोलन की मांग करने वाले जरूर पहुचेl
कल दिनांक 14/09/2015 को सभी साथी भारी संख्या में जयपुर पहुचेl वे साथी तो अनिवार्य रूप से पहुचे जो कभी जयपुर में दिखाई नहीं देते पर हमेशा हर बात पर यूनियन ने स्ट्राइक करने की मांग ही करते रहते हैं l
जीन लोगो को यूनियन से यह शिकायत हैं की यूनियन कोई कठोर निर्णय क्यों नहीं लेती वे जयपुर जरूर पहुचे l लोगो की उपस्थिति ही आन्दोलन का अल्टीमेटम देने का परिहार्य कारण मानी जाएगी l
और जो लोग सिर्फ बातो के ही शेर हैं वे यदि जयपुर में अपनी उपस्थिति दर्ज ही नहीं करा सकते तो कृपा कर कल के बाद से अपने होठो पर 5 रुपये की फेवीक्विक लगा कर हमेशा के लिए शांत बैठे l मोबाइल पर उंगलिया चलाने से आन्दोलन नहीं सिर्फ आन्दोलन की बाते ही हो सकती हैं l  आन्दोलन बातो से नहीं संख्या बल से होता हैंl
 
कल जयपुर में यह बात साबित हो जाएगी की कोन असली शेर हैं और कोन सिर्फ बातो का ही शेर हैंl

दिनांक 13/09/2015सोमवार के कार्यक्रम में आंशिक बदलाव : स्वास्थ्य मंत्री जी से मिलेंगे जोधपुर में, जयपुर में देंगे अल्टीमेटमl
स्वास्थ्य मंत्री जी के दो दिन के जोधपुर दौरे के कारण कल 14 सितम्बर जयपुर में सुबह उनसे मिलकर भर्ती को पूरा ना करने पर चरणबद्ध आन्दोलन के लिए अल्टीमेटम देने के कार्यक्रम में आंशिक बदलाव किये गए हैंl
अब स्वास्थ्य मंत्री जी को जयपुर में नहीं बल्कि 14 सितम्बर सोमवार को जोधपुर में सुबह 7 बजे सर्किट हाउस में ही राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष मनफूल पूनिया जी के नेतृत्व में दिनेश जांगू, योगेन्द्र पूरी, भंवर लाल जी, ब्रजेश खिची, चुनाराम चौधरी, उम्मीद सिंह, छेल सिंह, ओमप्रकाश, भंवर लाल वाभु, नरेश जी, पुनमाराम जी, दिनेश जी, मूल शंकर जी, भरत माली, अर्जुन मेघवाल, नरेन्द्र सिंह, राजेन्द्र यादव, घमडा राम, साजिद अली, जमील अहमद सहित सभी साथियों द्वारा अल्टीमेटम दिया जायेगाl
इसके अतिरिक्त जयपुर में एक अन्य टीम द्वारा राघव प्रताप जी के नेतृत्व में रमाकांत जी, ब्रह्म प्रकाश जी, साजन सियाग, संदीप, महेंद्र कुड़ी, एवं अन्य सभी साथियों द्वारा सुबह 10 बजे भाजपा कार्यालय पर जन सुनवाई कार्यक्रम में भर्ती के तुरन्त निस्तारण की मांग करने के पश्चात भर्ती अधिकारी अतिरिक्त निदेशक (प्रशासन) श्याम लाल जी गुर्जर को चरणबद्ध आन्दोलन के लिए अल्टीमेटम दिया जायेगाl
उपरोक्त दोनों टीमो के साथ अधिक से अधिक संख्या में साथियो को जाना होगा वरना आन्दोलन का यह सूत्रपात यही ढेर हो जायेगाl

दिनांक 12/09/2015 - सोमवार को सरकार को दिया जायेगा अल्टीमेटम : चरणबद्ध आन्दोलन का करेंगे आगाज़l
सोमवार को दिनांक 14/09/2015 को राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन का प्रतिनिधि दल सुबह स्वास्थ्य मंत्री जी के आवास पर उनसे मिल कर उनसे सरकार द्वारा भर्ती में जानबूझ कर की जा रही ढिलाई के बारे में वार्ता की जाएगीl
जिसके बाद भर्ती अधिकारी अति. निदेशक (प्रशा.) श्याम लाल जी गुर्जर से मिल कर उन्हें भर्ती शीघ्र पूरी नहीं करने पर आक्रोश जताते हुए आन्दोलन के चरणबद्ध तरीके का सूत्रपात करेंगे एवं उन्हें इसके सम्बन्ध में अल्टीमेटम भी देंगेl उक्त अल्टीमेटम में आन्दोलन के चरणबद्ध सूत्रपात की दिनांक भी घोषित की जाएगीl
जितने भी साथी इस भर्ती को शीघ्रता से पूरा होता हुआ देखना चाहते हैं उन सभी से निवेदन हैं की सोमवार को सुबह 6 बजे मंत्री जी के आवास पर अधिक से अधिक संख्या में शांतिपूर्वक एकत्रित होl
सोमवार को अपने पारिवारिक कार्यक्रम में व्यस्त रहने के कारण राजस्थान एनआरएचएम  नर्सेज एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष देवाराम चौधरी जी ने सोमवार को सरकार को अल्टीमेटम देने के जिम्मेदारी एसोसिएशन के कार्यकारी प्रदेशाध्यक्ष मनफूल पूनिया जी को दी हैंl देवाराम चौधरी जी सोमवार को अपने पारिवारिक कार्यक्रम में भाग ले कर अगले दिन से जोधपुर उच्च न्यायलय में बुधवार को होने वाली सुनवाई में इस केस के निस्तारण व भर्ती पर लगी रोक हटाने के लिए जोधपुर में उपस्थित रहेंगेl
लोगो के जोश और उनकी संख्या से ही इस आन्दोलन की अगली कड़ी का निर्धारण किया जायेगाl इसलिए वे लोग जो आज तक आन्दोलन करो का नारा ही जपते रहे हैं उनसे भी निवेदन हैं की थोडा सा मोबाइल या कंप्यूटर से हट कर जमीन पर खड़े होकर इस आन्दोलन में अपना सशरीर योगदान देl

दिनांक 09/09/2015 - भर्ती होने की सम्भावना कम हैं : पद बढ़ने की सम्भावना हैं अधिक

मंत्री जी के आदेश पर ही इस भर्ती को रोका गया हैं। 01 सितम्बर को कोर्ट में होने वाली सुनवाई से पहले ही मंत्री जी ने भाजपा कार्यकर्ताओ के प्रशिक्षण में इस बात को माना था की भर्ती अभी नहीं होगी।
इस भर्ती में कोई कानूनी रोड़ा नहीं हैं। जो रोड़ा हैं वो सरकार की तरफ से हैं। मंत्री और अधिकारी सिर्फ लोगो को गुमराह कर रहे हैं।
भर्ती को फ़साने के लिए पेचीदगियों का निर्माण किया जा रहा हैं। सरकार ने गलत फैसले ले कर इसे शुरू से ही विवादित बनाये रखा हैं।

दिनांक 08/09/2015 - भर्ती के लिए सरकार की कथनी कुछ और, करनी कुछ और।

14 वि विधान सभा के चतुर्थ सत्र में माननीय स्वास्थ्य मंत्री महोदय द्वारा भवन में आश्वासन दिया गया की " चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के विभिन संवर्गो में 22,112 पदों पर भर्ती प्रक्रियाधीन है जिन्हें शीघ्र पूरा कर पदस्थापित किया जायेगा"
विभाग द्वारा निम्नानुसार भर्तीया की जा रही है -
(1) नेत्र सहायक - 205
(2) नर्स द्वितीय - 11259
(3) एएनएम - 5559 
(4) लेब तकनीशियन - 1593
(5)डेंटल तकनीशियन - 94
(6) सहायक रेडियो ग्राफर - 1303
(7) लेब अस्सीसिटेंट - 814
(8) फार्मासिस्ट - 1209
(9) जूनियर साइकेट्रिक आसिटेंट -163
कुल = 22112 पद।
भर्ती प्रक्रिया के दौरान राज्य में भरतपुर एवं धौलपुर जिले के निवासी जाट जाति को obc में माना जाये या नही जिसके निराकरण हेतु पत्रावली कार्मिक विभाग से सामाजिक न्याय  एवं अधिकारिता विभाग को अन्तिम निर्णय सबंध में भिजवाई गई है । सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग पर पत्रावली पर निर्णय होने पर obc के प्रमाण पत्र की पुनः जाँच कर चयन सूचि जारी की जायेगी।
नर्स 2 की  भर्ती के सम्बन्ध में माननीय राजस्थान उच्च न्यायलय ने अंतरिम आदेश पारित किये हुए है की आगामी तारीख पेशी तक चयन सूचि जारी नही की जावे। प्रकरण में आगामी तारीख पेशी 15/9/15 नियत है अतः नर्स 2 की चयन सूची माननीय न्यायलाय के अंतरिम आदेश के निर्णय होने के पश्चात ही ज़ारी की जा सकती है।
जागो नर्सेज की राय -
इस भर्ती विशेषतः नर्सेज भर्ती 2013 के सम्बन्ध में सरकार कितने भी बयान जारी करे पर हकीकत यही हैं की पहले कांग्रेस और अब भाजपा सरकार इस भर्ती को जानबूझ कर अटकाती रही हैं।
भर्ती को पूरा करने में सहायक कोर्ट के किसी भी निर्देश को सरकार द्वारा कभी माना नहीं गया परन्तु जब कभी कोर्ट द्वारा इस भर्ती को पूरा करने के विरुद्ध कोई निर्देश जारी हुआ तो सरकार द्वारा उसे सहर्ष स्वीकार किया गया।
जब तक यह भर्ती कोर्ट में नहीं उलझी तब तक भर्ती प्रक्रिया को सरकार ने उलझा कर रखा।
यह भर्ती सिर्फ और सिर्फ सरकार की नियत की वजह से अटकी हुई हैं। जिस दिन सरकार भर्ती करना चाहेगी भर्ती पूरी हो जायेगी।
 

दिनांक 02/09/2015सरकारी वकील पर नहीं हैं भरोसा : खुद पैरवी करने का लिया निर्णयl
31 अगस्त एवं 1 सितम्बर के घटनाक्रम से यह स्पष्ट हो चूका हैं की इस भर्ती को पूरा करने के लिए यूनियन को सरकार के वकील के साथ जोधपुर उच्च न्यायालय में अपना वकील भी खड़ा करना ही पड़ेगा l
सरकारी वकील के भर्ती विरोधी कृत्य के बाद अब इस बात की कोई उम्मीद नही बची हैं की सरकारी वकील इस भर्ती के लिए कोर्ट से क्लीन चिट लेने की कोई इच्छा रखते हैं इसलिए अब फिर से वही परिस्थितिया आ गयी हैं जिनसे यूनियन का सामना पहले भी कई बार हुआ हैंl
इसके लिए राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन ने एक स्पष्ट निर्णय ले कर जोधपुर हाई कोर्ट में होने वाली सुनवाई में शामिल होने का फैसला कर लिया हैंl अपने दो दिन की जयपुर की जद्दो जहद के बाद देवाराम चौधरी जी ने आज जोधपुर पहुच कर हाई कोर्ट में कुछ वकीलों से इस भर्ती को कोर्ट के चंगुल से बाहर निकलने के सम्बन्ध में पुख्ता राय ले ली हैंl तथा अभी कुछ देर पहले वकील साहब को 10:30 पर भर्ती से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज भी उपलब्ध करवा दिए गए हैंl
कोर्ट केस हेतु वित्तीय प्रबंध :- यदि यूनियन ने कोर्ट केस के लिए नर्सेज से पैसा एकत्रित किया तो कुछ घटिया लोग जो यूनियन या देवाराम चौधरी पर आरोप लगाने के लिए काल्पनिक कहानिया तक गढ़ लेते हैं वे फिर से पैसे खाने जैसे आरोप लगाने लग जायेंगेl
हालाकि ऐसे कमजोर व्यक्तित्व के लोगो से देवाराम चौधरी तथा मजबूत यूनियन को कोई फर्क कभी नहीं पढ़ सकता फिर से इस केस के लिए यूनियन के प्रतिनिधियों व उन्हें ख़ास साथियों ने स्वयं ही पैसा लगाने का प्रस्ताव दिया हैंl यह एक सराहनीय कदम हैंl जो लोग संघर्ष के लिए कभी घर से बाहर नहीं निकलते वे ही आरोप लगाने को सदेव तत्पर ही रहते हैंl ऐसे में ऐसे लोगो को आरोप लगाने के लिए किसी और काल्पनिक बहाने की तलाश करनी पड़ेगीl
कोर्ट केस में यूनियन द्वारा भागीदारी की सार्थकता :-
असंभव सी प्रतीत हो रही इस भर्ती को पूरा करने के लिए यूनियन का प्रयास हैं की कमजोर एवं रद्दी सरकारी पैरवी से अच्छा हैं की अपने बूते पर इस केस को कोर्ट से बाहर लाया जाये परन्तु सबसे महत्वपूर्ण तथ्य यह भी हैं की भर्ती के पूरा होने के लिए भाग्य से भी ज्यादा सरकार की भर्ती पूरा करने की सकारात्मक नियत की आवश्यकता हैं l

 
दिनांक 02/09/2015कोर्ट में हुई भर्ती विरोधी गतिविधि के बाद भी सरकार को नहीं दिया जा सका अल्टीमेटम।
 
यूनियन ने 31 अगस्त को जयपुर जा कर मंत्री जी से वार्ता करने का निश्चय किया ताकि उनसे कोर्ट में होने वाली सुनवाई में भर्री पूरी करने के लिए मजबूत पक्ष रखने की मांग की जा सके।
इसके साथ यूनियन ने 1 सितम्बर को भी जयपुर में ही रुकने का निर्णय लिया जिससे कोर्ट में भर्ती की रुकावट हटने पर मंत्री जी एवं विभाग के अधिकारियो को धन्यवाद दे कर लिस्ट जारी करवाई जा सके।
और यदि कोर्ट में भर्ती फिर से अटकती हैं तो सरकार को 1 सितम्बर को ही अल्टीमेटम दिया जा सके।
कोर्ट में भर्ती के विरुद्ध प्रक्रिया को अंजाम देने के लिए सरकार को दोषी मानते हुए यूनियन ने सरकार को अल्टीमेटम देने का निर्णय लिया।
अतिरिक्त निदेशक जी से मिलने RNC गए तो वह पर पहले से ही अपने कुछ साथी जिनमे से अधिकांश का चयन निश्चित नहीं था वे लोग नियमित नर्सेज के एक संगठन प्रमुख के साथ अतिरिक्त निदेशक जी से वार्ता कर रहे थे। संस्कारो की परिधि में रहते हुए देवाराम जी एवं यूनियन के किसी साथी ने उनकी चर्चा में व्यवधान डालने की कोई कोशिश नहीं की व उनकी चर्चा में शामिल नहीं हुए।
जब उनकी चर्चा समाप्त हुई तो यूनियन की मीटिंग शुरू हुई। जिसमे पूर्व में चर्चा कर चुके एक साथी ने चलती मीटिंग में प्रवेश किया जिन्हें देवाराम जी ने यह कह कर वापस भिजवा दिया की आपकी वार्ता हो चुकी हैं और अभी हमारी वार्ता चल रही हैं।
यूनियन द्वारा अधिकारियो को अल्टीमेटम दे भी चुके थे। अतिरिक्त निदेशक महोदय ने कहा की अब अगली सुनवाई तो 15 को हैं आप बताओ की हम उस से पहले भर्ती कैसे कर सकते हैं।
ठीक उसी समय यूनियन से पहले अतिरिक्त निदेशक महोदय से बात कर चुके कुछ साथी चलती वार्ता के मध्य शामिल होने आ गए।
देवाराम जी ने वार्ता जारी रखते हुए कहा की आप Early Hearing करवा सकते हैं। और उस सुनवाई में जन स्वास्थ्य से जुडी अति विशिष्ठ सेवा का हवाला देते हुए क्लीन चिट ले सकते हैं। जिसके बाद 11259 पदों में से परिवादियों के पद रिज़र्व रख कर जोइनिंग लिस्ट जारी करवा सकते हैं।
ठीक उसी समय वार्ता के मध्य शामिल हुए दूसरे गुट के साथियो ने अतिरिक्त निदेशक महोदय से आपत्ति जताते हुए जोइनिंग लिस्ट को जारी करने के इस महत्वपूर्ण प्रयास को बाधित किया।
तब उन्होंने अतिरिक्त निदेशक महोदय द्वारा प्रस्तावित फिर से लिस्ट को अवलोकन के पश्चात प्रोविजनल लिस्ट जारी करने व उस लिस्ट पर फिर से (चौथी बार) परिवेदनाये (आपत्तियां) मांगे जाने के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया।
यूनियन ने अतिरिक्त निदेशक महोदय से कहा की इस बात की क्या गारन्टी हैं की इस बार की 15 तारीख की सुनवाई में फिर से निराश हाथ नहीं लगेगी। तब श्याम लाल गुर्जर जी ने कहा की उन्होंने स्वयं कोर्ट में उपस्थित रह कर 72 याचिकाओं का एक ही सुनवाई में निस्तारण करवाया हैं तो यह केस क्या चीज हैं। उन्होंने स्वीकार किया की उन्हें सरकारी वकील की कार्य प्रणाली पर बिलकुल भी भरोसा नहीं हैं। ऐसे में देवाराम जी ने उन्हें कहा की हम पहले भी सुप्रीम कोर्ट में भर्ती को पूरा करने के पक्ष में स्वयं पार्टी बन कर अपना पक्ष रख चुके हैं। और इस बार भी हमें इसकी जरूरत महसूस हो रही हैं।
अति. निदेशक जी ने कहा की यदि यूनियन द्वारा उन्हें एक चाहे कैसा भी हो प्राइवेट वकील उपलब्ध करवा दिया जाये तो इस एक सुनवाई में ही इस केस को पूरा कर भर्ती पूरी की जा सकती हैं।
उन्होंने कहा की अब हमारे पास 15 सितम्बर तक का समय तो हैं ही इसी समय अंतराल में विभाग प्रोविजनल लिस्ट जारी कर, परिवेदनाये ले कर, उनका निस्तारण कर, अगली सुनवाई को कोर्ट में जोइनिंग लिस्ट जारी करने हेतु पेश कर सकते हैं।
कुल मिला कर हमारे दूसरे गुट के कुछ अपने ही साथियो की गलत दखल अंदाजी के कारण या यु कहे की सरकारी चालो में फस कर यूनियन सरकार के तरीके को बदलवा कर जोइनिंग लिस्ट जारी नहीं करवा सकी।

दिनांक 02/09/2015यह भर्ती नहीं होगी : सरकार करना ही नहीं चाहती।

सरकार ने यह तय किया हुआ हैं की इस भर्री को पूरा नहीं किया जायेगा। चलो इस तथ्य को स्पष्ट करते हैं।
जब भी यूनियन का प्रतिनिधि मण्डल मंत्री जी के निवास पर उनसे मिलने जाता हैं तो मंत्री जी वही से अतिरिक्त निदेशक साहब को फ़ोन पर शीघ्र भर्ती पूरी करने के निर्देश देते हैं।
इसका सीधा तात्पर्य यह हैं की अतिरिक्त निदेशक महोदय इस भर्ती के लिए सीधे निर्देश/आदेश मंत्री जी से ही प्राप्त करते हैं।
अब यदि अतिरिक्त निदेशक महोदय इस भर्ती से जुड़े किसी कर्मचारी/अधिकारी को किसी प्रकार के निर्देश दे तो उस कर्मचारी/ अधिकारी के लिए वह निर्देश मंत्री जी से निर्देश प्राप्त करने के ही सामान होगा।
अब ऐसे में निर्देश प्राप्त होने के बाद भी कोई वकील पैरवी करने ही नहीं जाये और जो वकील पैरवी करने जाये वो पैरवी ही न करे यह तो संभव ही नहीं हैं।
वकील का पैरवी ना करना …….. सिर्फ और सिर्फ मंत्री जी के आदेश से ही हो सकता हैं।
इन तथ्यों को समझने के बाद कल के लिए यही रणनीति बनायीं गयी थी की अब सिर्फ सरकार को अल्टीमेटम देना ही शेष हैं। परन्तु कल के घटनाक्रम ने सब कुछ पलट दिया।

दिनांक 01/09/2015कोर्ट में भर्ती को लटकाने में सरकारी वकील ने किया सहयोग।
 
आज जोधपुर हाई कोर्ट में सरकार का पक्ष रखने के लिए अधिवक्ता पी. एस. भाटी जी नहीं पहुचे उनके स्थान पर पूर्व से ही निराशाजनक प्रदर्शन करते आ रहे अधिवक्ता के. एल. ठाकुर जी द्वारा पूर्णतः उपेक्षित व्यवहार किया गया।
वे आज कोर्ट में पहुचे और उन्होंने तथा विपक्ष के वकील कैलाश जी जांगिड़ द्वारा मौन धारण किया गया। दोनों के बिच किसी भी प्रकार की बहस तक नहीं हुई।
केस की सुनवाई करते हुए जज संदीप मेहता जी के यह पूछे जाने पर की क्या करना हैं? अगली तारीख लेनी हैं क्या? दोनों वकीलो ने इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया।
जज महोदय ने पूछा की कौन सी तारीख दू 8 सितम्बर या 15 सितम्बर इस पर विपक्ष के वकील कैलाश जांगिड़ जी ने कहा की 15 सितम्बर।
सरकारी वकील ने तब भी मौन ही धारण रखा एवं जज महोदय ने मात्र कुछ मिनिट्स तक चली इस केस की सुनवाई  में अगली सुनवाई के लिए 15 सितम्बर की तिथि घोषित कर दी।
महत्वपूर्ण :-
1. इस केस के लिए सरकारी वकील के. एल. ठाकुर जी ने कल भी अपने भुगतान के लिए अतिरिक्त निदेशक महोदय जी से निवेदन किया था। इससे प्रतीत होता हैं की सरकार इस भर्ती के लिए कितनी सजग हैं।
2. कल शाम को जोधपुर में यूनियन के प्रतिनिधियो ने पी. एस. भाटी जी से मुलाकात कर उन्हें महत्वपूर्ण दस्तावेज सोपे थे। पर आज सुनवाई में उनका अनुपस्थित रहना संदेह पैदा करता हैं।
3. क्या ऐसा हो सकता हैं की स्वास्थ्य मंत्री जी के निर्देशो के बाद भी सरकारी वकील कोर्ट में पैरवी ही ना करे व सुनवाई के समय मौन धारण कर ले …….. ऐसा तो कभी नहीं हो सकता। तो क्या भर्ती को लटकाने का यह सारा प्रपंच स्वास्थ्य मंत्री जी के निर्देशो पर ही रचा जा रहा हैं।
4. क्या अब कोर्ट द्वारा इस भर्ती को लंबे अन्तराल (ढाई वर्ष) तक विवादित रहने के आधार पर रद्द करवा दिया जायेगा।
5. तो क्या अब ऐसे समय में भी संविदाकर्मी इस भर्ती को सिर्फ यूनियन के भरोसे रख कर स्वयं घरो में बैठ कर व्हाट्सएप्प और फेसबुक पर खेलते रहेंगे।
6. इस स्थिति में यूनियन अब क्या निर्णय लेगी।

दिनांक 01/09/2015कल का दिन रहा संघर्षपूर्ण : आज कोर्ट में हो सकता हैं महत्वपूर्ण निर्णय।
जैसा की सभी साथियो को सुचना दी जा चुकी थी कल का घटनाक्रम अति महत्वपूर्ण था। सुबह 7:30 पर राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष देवाराम चौधरी जी की अध्यक्षता में स्वास्थ्य मंत्री जी के आवास पर उनसे वार्ता की गयी। जिसमे सिर्फ दो बिन्दुओ पर ही वार्ता की गयी।
1. भर्ती अधिकारी प्रोविजनल लिस्ट निकाल कर फिर से परिवेदनाये लेना चाहते हैं जिससे भर्ती को कोर्ट में अटकाए जाने की पूर्ण सम्भावनाये बन जायेगी।
इसके निस्तारण हेतु प्रोविजन लिस्ट के स्थान पर सीधे जोइनिंग लिस्ट का प्रकाशन कर तुरन्त जोइनिंग दी जाये।
2. कोर्ट में होने वाली सुनवाई में सरकार का पक्ष अपेक्षा के अनुरूप सक्षम प्रतीत नहीं हो रहा हैं जिसकी वजह से हमारी भर्ती अगली तारीखों में उलझ कर रद्द की जा सकती हैं। इस समस्या के निराकरण के लिए इस केस को 1 सितम्बर की सुनवाई में ही पूर्ण कर भर्ती पर लगा स्टे ख़ारिज करने के निर्देश देकर अधिवक्ता के. एल. ठाकुर के स्थान पर अति वरिष्ठ एवं सम्मानीय अधिवक्ता पि. एस. भाटी जी द्वारा इस केस की सुनवाई करवाई जाये।
उक्त मांगो की महत्वता को स्वीकारते हुए मंत्री जी ने अतिरिक्त निदेशक (प्रशासन) श्याम लाल गुर्जर जी को फ़ोन पर उक्त तथ्यों की क्रियान्विति सुनिश्चित करने हेतु निर्देश दिए।
इसके बाद अतिरिक्त निदेशक महोदय जी से मुलाक़ात कर उन्हें भर्ती अटकने की समस्त संभावित परिस्थितियों से अवगत कराते हुए प्रोविजनल लिस्ट के स्थान पर तुरन्त जोइनिंग लिस्ट जरी की जाये।
उक्त संभावनाओ को स्वीकारते हुए अतिरिक्त निदेशक महोदय ने जोइनिंग लिस्ट जारी करने के प्रस्ताव को स्वीकार किया परन्तु शीघ्र जोइनिंग लिस्ट जारी करने के नाम पर उन्होंने कहा की वे पद स्थान के रूप में सिर्फ जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी/ पी एम ओ/ मेडिकल कॉलेज का आवंटन करेंगे।
आज 1 सितम्बर को जोधपुर हाई कोर्ट में होने वाली सुनवाई में भर्ती को अटकने से बचाने के लिए तथा आज ही भर्ती की रुकावट को दूर करने के लिए वरिष्ठ अधिवक्ता पी. एस. भाटी जी को जिम्मेदारी देने हेतु आदेश तैयार किये।
इस आदेश को विधि शाखा में पंहुचा कर जरूरी दस्तावेज तैयार किये गए।
यूनियन द्वारा संकलित दस्तावेज अधिकारियो व पी. एस. भाटी जी तक पहुचाये गए।
एएनएम के पदों में आंशिक वृद्धि कर सामान्य वर्ग की वंचित अभ्यार्थीयों को कुछ हद तक लाभ देने का प्रयास किया जा रहा हैं। लैब तकनीशियन की लिस्ट आज या कल में आने की पूरी सम्भावनाये हैं। जिसके बाद फार्मासिस्ट की 1209 पदों पर शीघ्र लिस्ट आने की सम्भावना हैं।
अब यदि आज कोर्ट में सरकार अपना पक्ष मजबूती से रख कर इस भर्ती से स्टे ख़ारिज करवा सके तो बहुत जल्द नर्स ग्रेड 2 एवं एएनएम की लिस्ट जारी की जा सकती हैं वरना ………………

दिनांक 30/08/2015अन्य भर्तिया हो रही हैं निरस्त : 31 अगस्त को जयपुर आये और अपनी भर्ती बचाए l
 
जैसा की हम बहुत समय पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं की इस भर्ती को कानूनी पेचीदगियो में फसा कर इसे निरस्त कराये जाने के प्रयास किये जा रहे हैं जिसके फलस्वरूप इस भर्ती की प्रक्रिया को अधिकतम समय तक खीचा जा रहा हैंl दबाव बनाने पर हमसे कहा जाता हैं की आपकी भर्ती को जल्द पूरा किया जायेगा पर हमारे दबाव बनाने के बाद भी दुसरे कैडर की भर्ती/पदोन्नति की प्रक्रिया में अनावश्यक समय व्यर्थ किया जाता हैंl
 
अब हमारे भर्ती अधिकारी अतिरिक्त निदेशक (प्रशासन) श्याम लाल गुर्जर जी कह रहे हैं की उनके पास समय की अनुपलब्धता के चलते वे जोइनिंग लिस्ट तैयार ही नहीं कर सके और उन्हें फिर से प्रोविजनल लिस्ट जारी करनी होगीl तो यह स्पष्ट नहीं हैं की जब हमारे अलावा कोई और कैडर आन्दोलन कर ही नहीं रहा हैं तो इन्होने सबसे पहले नर्सेज भर्ती का कार्य पूरा क्यों नहीं किया अन्य कैडर के अपेक्षाकृत कम महत्वपूर्ण कार्यो में अपना समय बर्बाद क्यों किया l कही ऐसा तो नहीं की सरकार एवं भर्ती अधिकारियो द्वारा सम्मिलित रूप से इस भर्ती के खिलाफ षडयंत्र किया जा रहा हैं l
 
नर्स ग्रेड 2 की लिस्ट का कार्य लगभग पूरा हो चूका हैंl जनरल के लड़को के 1800 नाम कंप्यूटर में चढाये जाने शेष रहे हैं जिन्हें आज शाम तक हर हाल में चढ़ा लिया जायेगाl जिसके बाद 31 अगस्त को शाम तक प्रोविजनल लिस्ट जारी की जा सकती हैं l यह स्पष्ट हैं की यदि इस बार हमारी जोइनिंग लिस्ट नहीं आई और किसी भी प्रकार की फालतू लिस्ट (प्रोविजनल लिस्ट) जारी हुई तो निश्चित रूप से इस भर्ती को फिर से कोर्ट में अटकना ही होगा l
 
तो साथियों आपसे आवाहन किया जाता हैं की 31 अगस्त को प्रातः 5:30 पर जयपुर सिविल लाइन्स स्थित स्वास्थ्य मन्त्री जी के आवास पर पधारेl हमे मन्त्री जी से जिद करनी होगी की वे हमारी जोइनिंग लिस्ट का प्रकाशन करवाए l
 
31 अगस्त 05:30 am  – स्वास्थ्य मन्त्री निवास, सिविल लाइन्स, जयपुर l
31 अगस्त 10:00 am  – स्वास्थ्य भवन, जयपुर l

दिनांक 27/08/201531 अगस्त को जयपुर कूच : संभवतः भर्ती पड़ सकती हैं खतरे में l

यदि सरकार की नियत भर्ती को पूरा करने की नहीं हैं तो बहुत जल्द ही यह भर्ती खटाई में पड़ने वाली हैं और नर्सेज को भर्ती बचाने के प्रयास करने होंगे l
भर्ती के विरुद्ध केस लगाये बैठे पक्षकार इस बात के लिए पूरे प्रयास कर रहे हैं की 1 सितम्बर को होने वाली सुनवाई में किसी भी मुद्दे पर इस भर्ती को अगली सुनवाई तक के लिए लटका दिया जाये और भर्ती से जुड़े सरकारी तत्व पूर्व के सामान इस बार भी उनका साथ दे सकते हैं l
ज्ञात हो की इस भर्ती को लटकाने के उद्देश्य से या फिर यु कहे की रद्द कराने के उद्देश्य से पिछले भर्ती अधिकारी द्वारा पिछले घटनाक्रम में तीन बार परिवेदनाये लेने का ऐतिहासिक कदम उठाया गया था l जिसके बाद उक्त अधिकारी को पुरुस्कृत कर अन्य विभाग में स्थानान्तरित कर दिया गया था l यदि गौर किया जाये तो हर बार जब भी भर्ती पूरा करने का समय आता हैं तो भर्ती अधिकारी द्वारा भर्ती को लटकाने का अनैतिक प्रयास किया जाता हैं जिसके पश्चात उक्त महोदय का स्थानांतरण कर दिया जाता हैं l परन्तु इस बार यदि फिर से ऐसा होता हैं तो भर्ती को लटकाया नहीं जायेगा बल्कि ढाई वर्ष तक विवादित रहने के तर्क के आधार पर रद्द ही कर दिया जायेगा l
और इस बार का यह अनैतिक कृत्य होगा फिर से प्रोविजनल लिस्ट जारी करना जिसे फिर से कोर्ट में चुनोती का सामना करना पड़ेगा और इस बार यह भर्ती हर हाल में निरस्त ही होगी l
अब यदि सरकार भर्ती को अटकाना चाहेगी तो निश्चित रूप से नर्स ग्रेड 2 की फाइनल कट ऑफ लिस्ट का तो प्रकाशन किया जायेगा परन्तु किसी भी हाल में जोइनिंग नहीं दी जाएगी l 
और यदि सरकार सच में इस भर्ती को पूरा करना चाहती ही हैं तो इस बार नर्स ग्रेड 2 की जोइनिंग लिस्ट जारी कर दी जाएगी l 
यही समय हैं और आखिरी समय हैं ............ 31 अगस्त को जयपुर पधारे और जोइनिंग सुनिश्चित होने पर ही जयपुर से वापस आये l

 
दिनांक 26/08/2015 - मंत्री जी के दिल्ली जाने के कार्यक्रम के कारण कल नहीं हो पायेगी मंत्री जी से मुलाक़ात l 

मंत्री जी के दिल्ली जाने के कार्यक्रम के चलते कल यूनियन का मंत्री जी से मिलना संभव नहीं होगाl सभी साथीगण जो कल जयपुर आना चाहते है  वे अपना जयपुर आने का कार्यक्रम तुरन्त निरस्त करे l

अतिरिक्त निदेशक श्याम लाल जी गुर्जर के अनुसार 31 अगस्त तक वे नर्स ग्रेड 2 की फाइनल लिस्ट तो जारी कर सकते हैं पर पद स्थान के साथ जोइनिंग जारी नहीं कर सकतेl इस प्रकार की परिस्थिति में यह भर्ती फिर से कोर्ट के पचड़े में पड़ सकती हैंl इससे बचने के लिए यही एक मात्र यही उपाय हैं की मंत्री जी से मिल कर उनसे फाइनल लिस्ट को पद स्थान के साथ जोइनिंग लिस्ट के रूप में जारी करने की मांग की जायेl
विदित हैं की फिलहाल जितनी भी लिस्ट सरकार द्वारा जारी की जा रही हैं वे सभी पद स्थान के साथ जोइनिंग लिस्ट के रूप में जारी की जा रही हैं तो फिर नर्सेज भर्ती के साथ इस प्रकार का भेदभाव क्यों ???????
अगले कार्यक्रम के बारे में शीघ्र सुचना प्रसारित की जाएगीl  

दिनांक 24/08/2015जयपुर करना होगा कूच : अभी भी शेष हैं भर्ती में जटिलता।

आज राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन के प्रतिनिधियों ने राघव प्रताप जी के नेतृत्व में भर्ती अधिकारियो से मुलाकात की। आज की मुलाकात का निष्कर्ष यह रहा की चिकित्सा विभाग द्वारा विज्ञापित समस्त भर्तियो में नर्स ग्रेड 2 की भर्ती ही हमेशा से विवादित रही हैं। यह भर्ती सबसे ज्यादा मुश्किलो और संघर्ष के साये में पली हैं। वर्तमान में नियुक्ति हेतु जारी होने वाली प्रत्येक लिस्ट का स्वरुप इस प्रकार का हैं जैसे की उसे भर्ती पूरा करने के लिए ही डिज़ाइन किया गया हैं। परन्तु नर्स ग्रेड 2 की जोइनिंग लिस्ट की बाट जोह रहे साथियो को काफी निराशा हाथ लग सकती हैं।
जिस लिस्ट को 31 अगस्त तक जारी किया जाना हैं वह जोइनिंग लिस्ट हैं ही नहीं। इसके समाधान के लिए राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन ने समस्त संभावनाओ पर विचार किया और यह निर्णय लिया की 27 अगस्त को जयपुर कूच करना होगा।
यदि मंत्री जी 27 अगस्त को जयपुर में उपलब्ध ना हो तो अगले दिन 28 अगस्त को जयपुर चलना सुनिश्चित करे।
एक बात तो बिलकुल साफ़ हैं की जिस भर्ती को पूरा करना होता हैं उसके नतीजे को स्पष्ट जोइनिंग के साथ ही दिया जाता हैं और भर्ती के लिए सबसे ज्यादा संघर्ष करने वाले कैडर के साथ ही इस प्रकार के प्रयोग क्यों किये जाते हैं।
सभी साथियो से अनुरोध हैं की 27 अगस्त को यदि स्वास्थ्य मंत्री जी जयपुर में उपलब्ध हुए तो 27 अगस्त को सुबह 7 बजे स्वास्थ्य मंत्री जी के आवास पर पहुचे।
वही सभी साथियो को समस्त वस्तु स्थिति से परिचित करवा दिया जायेगा। ऊपर वाले ने चाहा तो इस बार भर्ती के लिए जयपुर का आखिरी दौरा होगा।

 


जयपुर, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, राज्य स्वास्थ्य समिति स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग स्वास्थ्य भवन तिलक मार्ग जयपुर के द्वारा एएनएम के 1117 पद, जीएनएम के 281 पद, फार्मासिस्ट के 241 पद,लैब टेक्निशियन के 140 पद, पब्लिक हैल्थ मैनेजर के 206 पद तथा अकाउण्टेंट कम डाटा एंट्री आॅपरेटर्स के 41 पदों पर भर्तीयां निकाली है । ये सभी पद शहरी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के लिए निकाले गए है । इसके अतिरिक्त जिला स्तर पर अकाउण्टेंट कम डाटा एंट्री आॅपरेटर का एक पद, जिला स्तर पर शहरी स्वास्थ्य योजना सलाहकार के चार पद , शहरी स्तर पर लेखा प्रबन्धक के दो पद तथा राज्य स्तर पर प्रोग्राम आॅफिसर के दो पदों पर भी आवेदन आमंत्रित किये गये है । ये सभी पद पूर्ण रूप से एक वर्ष की संविदा के लिए है जिसे भारत सरकार की अनुमति मिलने पर आगे बढाया जा सकता है (जो भी पहले हो) शैक्षणिक योग्यता, वांछित अनुभव, मासिक पारिश्रमिक, आवेदन पत्र, भर्ती प्रक्रिया,आवेदन शुल्क, आवेदन जमा करवाने की अंतिम तिथि सम्बन्धि विस्तृत जानकारी दिनांक 25 अगस्त से विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध होगी ।

दिनाक 20/08/2015 :- चिकित्सा कर्मियों के लिए दो बड़ी खबरे l 

1 परफॉरमेंस के आधार पर स्थाई एव संविदा चिकित्सा कर्मियों को जेएसवाई के तहत मिलेगी प्रोत्साहन राशि :- मिशन निदेशक एनएचएम ने दिनाक 18.08.2015 को एक आदेश एफ 2(28)NRHM/SPM/2015/571 जारी कर राज्य के सभी जिलों PHC, CHC AND SUBCENTER पर 2014 की GUIDELINE संख्या एफ  2(28)NRHM/SPM/2014/01 दिनांक 01.01.2015 के अनुसार देय होगी इसबार भी राज्य के सभी जिलो 86,00,000 रुपये भारत सरकार की स्वीकृत PIP की क्रियान्विति कर वितीय स्वीकृत जारी कर दी है यह 01.01.2015 से प्रभावी होगी 

2 प्रदेश के चिन्हित चिकित्सा संस्थानों पर मिलेगी HARD ALLOWANCE की प्रोत्साहन राशि मिशन निदेशक एनएचएम ने दिनाक 07.08.2015 को एक आदेश क्रमांक एफ 2(28)NRHM/SPM/2015/548 जारी कर राज्य के 13 दुरस्थ एव दुर्गम जिलों में PHC, CHC AND SUBCENTER पर सुविधाओ के अभाव को देखते हुए V1, V2, V3 श्रेणी के आधार पर दिया जायेगा | भारत सरकार की स्वीकृत PIP की क्रियान्विति कर वितीय स्वीकृत जारी कर दी है यह 01.01.2015 से प्रभावी होगी | यह राशि भी 2014 की GUIDELINE के अनुसार देय होगी |

 


दिनाक 20/08/2015 :- राजस्थान एनआरएचम नर्सेज एसोसिएशन आज से प्रदेश के तमाम नर्सेज के हितो से जुड़ी ताजा खबरे पुनः प्रसारित करने जा रहा है काफ़ी समय से आप तक ताजा खबरे समय की व्यस्त्ता के चलते नहीं पहुँचा पा रहे थे अब इस एसोसिएशन के जुड़े लोगो की बेहद मांगो को देखते हुए पुनः प्रारम्भ करने जा रहे है जिससे बिना भेदभाव किये सही एव सटीक जानकारी मिलेगी

 


 

दिनांक – 22/04/2015 नही आएगी कोई भी जोइनिंग लिस्ट इस माह या अगले माह।
मित्रो यह प्रतीत हो रहा है की चयनित अगर धर से न निकले तो नियुक्तिया सम्भव नही है ।

आज अधिकारियो से वार्ता से कुछ भी स्पस्ट नही हो रहा की आखिर जोइनिंग लिस्ट कब निकलेगी ?
सिर्फ शून्य का ही आभास हुआ ; लगा ही नही की 1st लिस्ट को जोइनिंग देने में उनकी कोई भी स्पस्ट प्लानिंग है। कही से तो कुछ संकेत मिले की यह जोइनिंग हो पाएगी; पर ऐसा नही प्रतीत हो रहा है ।

यह सब हो रहा है आपकी अपनी सुस्त रवेये से ; आप को अगर दम्भ है लिस्ट आ गई जोइनिंग किसी का बाप नही रोक सकता तो यह मुर्ख बुद्दी निकाल देवे कब चयनित से वंचित हो जाए पता नही ।

अगर आप सभी चयनित नियुकतिया चाहते है तो जल्द जोइनिंग की मांग को लेकर दिनाक 23/4/2015 को सुबह 5.30 am चयनित नर्सेज चिकित्सा एव स्वास्थ्य मंत्री के आवास  पर पहुच कर उनसे जोइनिंग की मांग करे।

इसकी जिमेदारी इस प्रकार है
1. नरेश पाली 9983201294 ,
2.साजन नागौर 9950148717,
3.विनोद शर्मा गंगानगर 9950278444,
4.संजय टोंक 9929830225,
5.पुनमाराम जालोर 9799168687,
6.ब्रह्म्प्रकाश जयपुर
7.रमाकांत जयपुर 9351603103,
8.फरीद भीलवाड़ा 9784418864 ,
9.नरेद्र सिंह सिरोही 9929276684
10.अर्जुन मेगवाल 9784742810 ,
11.जुहर रहमान चितोड़ 9001990576
12. रामावतार बारां
 आप सभी एक साथ इकठे होकर एक साथ मंत्री जी से सांत रूप से मिलकर जल्द न्युकति की मांग करनी है इसके साथ इनको प्रत्यक जिले को जिले वार 20 चयनित  लोगो को जयपुर फोन करके बुलाना है


दिनांक – 15/04/2015 यूनियन ने की स्वास्थ्य मन्त्री जी से मुलाक़ात

आज सुबह तड़के ही राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष देवाराम चौधरी के नेतृत्व में प्रदेश भर के संविदा नर्सेज स्वास्थ्य मन्त्री जी के सिविल लाइन्स स्थित आवास पर इकठ्ठा हुए और उन्हें उनकी आगामी विदेश यात्रा के लिए शुभ कामनाये दीl उनसे मुलाक़ात कीl यूनियन ने मन्त्री जी से लम्बी वार्ता में स्पष्ट बिन्दुओ पर बात कीl

  • अस्थाई चयन सूचि में चयनित नर्सेज (8641 नर्स ग्रेड 2 + 5559 एएनएम) को शीघ्र नियुक्ति देने हेतुl
  • पदो की संख्या विज्ञापित पदो के सामान (15773 नर्स ग्रेड 2 + 12248 एएनएम) बनाये रखने हेतुl
  • सन 2003 से लगी प्रोविजनल एएनएम व आरसीएच एएनएम का सर्विस रिकॉर्ड शीघ्र पूर्ण कर उन्हें भर्ती में चयन होने का मौका देनाl

आज मन्त्री जी से मिलने के बाद यूनियन का भर्ती से सम्बंधित अधिकारियो से मिलने का दौर जारी रहेगा जिसकी विस्तृत जानकारी आज शाम तक प्रसारित की जाएगीl


दिनांक – 15/04/2015 को जयपुर कूच …………. चलो जयपुर

दिनांक 13 अप्रैल से यूनियन सरकार पर इस भर्ती को पूरा करने के लिए लगातार दबाव बना कर रखेगीl जिसके क्रम में

दिनांक 13/04/2015 को यूनियन ने जयपुर में भर्ती से सम्बंधित सभी अधिकारियो पर इस भर्ती के तुरन्त निस्तारण हेतु दबाव बनायाl 

दिनांक 14/04/2015 को यूनियन के तत्वाधान में चुरू में स्वास्थ्य मंत्री जी के आवास पर भारी संख्या में अभ्यार्थी उन से मिल कर इस अटकी हुई भर्ती के तुरन्त निस्तारण के लिए दबाव बनायेंगेl

इसी क्रम में दिनांक 15/04/2015 को सम्पूर्ण प्रदेश के समस्त चयनित अभ्यार्थियों को जयपुर आना हैंl इस अटकी हुई भर्ती के उचित निस्तारण हेतु दिनांक 15 अप्रैल को समस्त चयनित अभ्यार्थी जयपुर में सुबह 6 बजे स्वास्थ्य मंत्री जी के सिविल लाइन्स स्थित आवास पर उनसे मुलाक़ात करेंगेl

दिनांक 15 अप्रैल को जयपुर के विशेष प्रयोजन हेतु प्रदेश कार्यकारिणी के निम्न सदस्य मुख्या भूमिका में रहेंगे

मनफूल पूनिया (7726973526)

मनीराम चौधरी (9929960052)

रामावतार चौधरी (9982580979)

रमाकान्त शर्मा (9351603103)

राघव प्रताप सिंह (9829199956)

ब्रहम प्रकाश जी (9829578606)

ऋषिराज जी (9001972304)

डालुराम जी (9166237454)

मोहन लाल जी (9166622745)

अंजुम ताहिर शेख (9214316883)

दीपक मीणा (7597071270)


दिनांक – 13/04/2015 :- यूनियन ने धावा बोला जयपुर पर

आज दिनांक 13/04/2015 को यूनियन के समस्त प्रमुख प्रतिनिधियों ने आज अटकी हुई भर्ती को पूरा करने के लिए जयपुर पर धावा बोल ही दियाl हमें इन कुछ चुनिन्दा लोगो का अहसानमंद होना चाहिए जिनमे देवाराम चौधरी जी समेत यूनियन के समस्त प्रभावी कार्यकर्ताओ ने जयपुर पहुच कर स्वास्थ्य भवन तथा निदेशालय पर धावा बोलते हुए वर्तमान में चिकित्सा विभाग की अटकी हुयी नर्सेज भर्ती से सम्बंधित सभी अधिकारियो से भर्ती को शीघ्र पूर्ण करने हेतु एक अहम् मांग रखीl

इस क्रम में देवाराम चौधरी जी की अध्यक्षता में यूनियन प्रतिनिधियों ने सर्वप्रथम अतिरिक्त निदेशक महोदय दिनेश जांगिड से मिल कर उनसे भर्ती के अटकने के समस्त कारणों की समीक्षा कीl इसके पश्चात यूनियन प्रतिनिधियो ने प्रमुख शासन सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) मुकेश शर्मा जी, प्रमुख सचिव (वित्त) प्रेम सिंह मेहरा एवं मुख्य सचिव सी. एस. राजन जी से मिल कर उनसे स्पष्ट रूप से दो सूत्रीय मांग रखीl

  • चयन से वंचित रहे नर्सेज की नियुक्ति सुनिश्चित करने हेतुl
  • प्रोविजनल रूप से चयनित नर्सेज को शीघ्र नियुक्ति देने हेतुl

कल दिनांक 14/04/2015 को राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिए



go to top