राजस्थान एनआरएचएम यूनियन वेबसाइट में आपका हृदयपूर्वक स्वागत हैं

email id - nrhm.rajasthan.union@gmail.com

राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन

 

 

''Mamtamai Maa Kaali ki Jai"/ " Hare kei sahare ki jai"  / "Khatu wale Naresh ki jai'' 

इस वेबसाइट में लोगों की निरीक्षण संख्या  

''द्वेष ईर्ष्या व क्रोध  से ग्रसित व्यक्ति अफवाह को जन्म देते है, कुन्ठित-बुद्धिहीन व्यक्ति उसको फैलाते है और मुर्ख उसे सत्य मान लेते है'' 

'' जुल्म सहने वाला जुल्म करने वाले से ज्यादा बड़ा गुन्हागार है, क्योकि खामोशी से जुल्म सह कर वो गुन्हागार के हौसले और भी बुलन्द करता है ,जिससे प्रेरित हो गुन्हागार और भी बडे और भी घिनौने जुल्म करता है ''

''सम्विधा प्रथा केन्सर के समान एक गंभीर प्रशासनिक बीमारी है , जो आज भी आधुनिक भारत मे इन्सानो को गुलाम बनाने की घिनौनी पद्ध्ति है'' 

 

दिनांक 14/02/2015 :- 16 फरवरी का जयपुर मीटिंग रद्द।

 

दिनांक 16 फरवरी को जयपुर जा कर स्वास्थ्य मंत्री जी व भर्ती से सम्बंधित अधिकारियो से मिलने का जो कार्यक्रम तय किया गया था उपयुक्त समय के लिए निरस्त करना पड रहा हैं।

कारण -
प्रधान मन्त्री जी दिनांक 20 फरवरी को सूरतगढ़ का दौरा करने वाले हैं जिस कारण स्वास्थ्य मन्त्री जी ने दिनांक 20 फरवरी को मोदी जी के दौरे तक सूरतगढ़ में ही रहने का कार्यक्रम निर्धारित किया हैं जिस कारण वे दिनांक 20 फरवरी तक जयपुर में मुलाक़ात हेतु उपलब्ध नहीं हो पाएंगे।
स्वास्थ्य मंत्री जी की अनुपस्थिति में इतनी संख्या में लोगो को जयपुर बुलाने का कष्ट देने का कोई ओचित्य नहीं रहेगा।

नयी रणनीति - 
बदली हुई परिस्थितियों में हमें भी अपनी रणनीति को बदलना होगा। दिनांक 16 फरवरी को हमारा एक प्रतिनिधि दल भर्ती से सम्बंधित समस्त अधिकारियो से मिल कर भर्ती प्रक्रिया, वित्त विभाग की प्रक्रिया और मेरिट लिस्ट जारी करने हेतु गठित की गयी टीम के क्रिया कलाप की प्रगति की जानकारी लेगा।
इसके अतिरिक्त यदि 20 फरवरी तक किसी भी कारण से स्वास्थ्य मंत्री जी का जयपुर आना होता हैं तो हमारा प्रतिनिधि दल अभिनीत भारद्वाज जी व सीताराम जी के नेतृत्व में उनसे मुलाकात करेगा।

स्वास्थ्य मंत्री जी की जयपुर में उपलब्धता को सुनिश्चित करते हुए जयपुर कूच करने की तिथि सार्वजानिक कर दी जाएगी तब तक के लिए सभी साथियों से निवेदन हैं की अपना जोश बनाये रखे व भर्ती पूरी कराने के लिए किये जा रहे संघर्ष में अधिक से अधिक लोगो को जोड़ने का प्रयास करते रहे।

 



go to top