राजस्थान एनआरएचएम यूनियन वेबसाइट में आपका हृदयपूर्वक स्वागत हैं

email id - nrhm.rajasthan.union@gmail.com

राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन

 
 

 

''Mamtamai Maa Kaali ki Jai"/ " Hare kei sahare ki jai"  / "Khatu wale Naresh ki jai'' 

इस वेबसाइट में लोगों की निरीक्षण संख्या  

''द्वेष ईर्ष्या व क्रोध  से ग्रसित व्यक्ति अफवाह को जन्म देते है, कुन्ठित-बुद्धिहीन व्यक्ति उसको फैलाते है और मुर्ख उसे सत्य मान लेते है'' 

'' जुल्म सहने वाला जुल्म करने वाले से ज्यादा बड़ा गुन्हागार है, क्योकि खामोशी से जुल्म सह कर वो गुन्हागार के हौसले और भी बुलन्द करता है ,जिससे प्रेरित हो गुन्हागार और भी बडे और भी घिनौने जुल्म करता है ''

''सम्विधा प्रथा केन्सर के समान एक गंभीर प्रशासनिक बीमारी है , जो आज भी आधुनिक भारत मे इन्सानो को गुलाम बनाने की घिनौनी पद्ध्ति है'' 

दिनांक 11/01/2015 :                                               संकट बरकरार : भर्ती पर असमंजस 

दिनांक 6 जनवरी से अभी तक भर्ती पर असमंजस की स्थिति बनी हुई हैंl यह भी सम्भव हैं की भर्ती फिर से कोर्ट में चली जाएl सरकार द्वारा भर्ती पूरी करने के लिए जिस प्रकार की प्रक्रिया अपनाई जा रही हैं उस से इस बात की बहुत सम्भावनाये हैं की भर्ती फिर से कोर्ट में चली जाए व अटक जाएl

अधिकारियो के बयान के अनुसार स्वास्थ्य मन्त्री राजेन्द्र राठौर जी इस भर्ती को तुरंत निस्तारित करना चाहते हैं परन्तु अधिकारीगण कुछ कानूनी समस्याओ के कारण या इच्छाशक्ति के कमजोर होने के कारण इस भर्ती को कानूनी पेच में फसा सकते हैंl वजह जो कोई भी हो हमें परिस्थितियों के अनुसार अपनी रणनीति को ढालना होगा और कुछ नए पहलुओ को अपनी रणनीति में शामिल करना होगाl 

- इस भर्ती की समस्त समस्याए नर्स ग्रेड - ll व अन्य कैडर से जुडी हुयी हैं परन्तु ए एन एम की भर्ती में इस प्रकार की कोई समस्या नहीं हैंl फिर इतने समय से ए एन एम की भर्ती क्यों अटकी हुयी हैंl ए एन एम की लिस्ट जारी नहीं हो पाने का एक मात्र कारण सम्पूर्ण ए एम एम कैडर की इस भर्ती के प्रति उदासीनता ही हैं इसके अतिरिक्त और कोई बाधा नहीं हैंl

- ए एन एम कैडर को यूनियन के साथ संगठित हो कर अपनी लिस्ट जारी करने की मांग करनी चाहिएl ऐसे में यदि ए एन एम की लिस्ट जारी हो जाती हैं तो सरकार की मंशा को सकारात्मक लिया जा सकता हैं और भर्ती का सिलसिला भी शुरू हो सकता हैं परन्तु यदि ऐसा नहीं होता हैं तो यह मान लिया जाना चाहिए सम्पूर्ण सरकारी तंत्र इस भर्ती को पूरा करने के नाम पर सिर्फ आश्वाशन ही दे रहा हैंl

- ए एन एम को संगठित करने से भर्ती पूरी करने के लिए सरकार पर भारी दबाव तो बनेगा की साथ ही साथ यदि सरकार की भर्ती पूरी करने की कोई मंशा होगी तो सम्पूर्ण नर्सेज व फार्मासिस्ट जैसे कैडर की भर्ती प्रक्रिया भी सम्पूर्णता की और अग्रसर होगीl

इसी प्रायोजन की सिद्धि हेतु आशा शर्मा (ए एन एम) ने कोटा जिले की कुछ ए एन एम को संगठित करने का छोटा सा प्रयास किया हैं अब देखना यह हैं की इनका यह प्रयास सफल होता हैं या फिर से ए एन एम कैडर आलस्य की चादर ओड लेगाl

पता नहीं नारी शक्ति इतनी शक्तिहीन क्यों हो जाती हैं ?????               


दिनांक 07/01/2014 :                                         6 जनवरी : संघर्ष एवं असमंजस भरा दिन l 

कल दिनांक 6 जनवरी को देवाराम चौधरी एवं अभिनीत भारद्वाज जी के नेतृत्व में सीताराम चौधरी, मूल शंकर जी , राघव प्रताप जी, डालुराम जी, ब्रहम प्रकाश जी, सुनील दाभाई, चन्द्र शेखर जी, विष्णु शर्मा, जोगेंद्र जी, मोहन जी, प्रमोद मीणा सहित कई संविदा नर्सेज एवं रमाकांत शर्मा, दीपक मीणा सहित कई मेडिकल कॉलेज के संविदा नर्सेज तथा सचिन गुप्ता सहित कई फ्रेशर जयपुर में पधारे व भर्ती हेतु जारी संघर्ष में सशरीर (ना ऑनलाइन और ना ही फ़ोन पर) शामिल हुए l

चिकित्सा मन्त्री श्री राजेंद्र सिंह जी राठौर - सुबह जल्दी ही हमारे प्रतिनिधि दल ने चिकित्सा मंत्री जी के आवास पर उनसे मुलाकात की l उन्हें नववर्ष की बधाई दी व साथ ही SLP वापस लिए जाने पर उनका आभार व्यक्त किया l  जिसके बाद हमारे प्रतिनिधि दल ने उनसे जल्द ही लिस्ट जारी करवाने का आग्रह किया l  मंत्री जी ने आभार स्वीकार करते हुए हमारे प्रतिनिधि दल को जल्द ही लिस्ट जारी किये जाने हेतु आश्वस्त किया और कहा की आप से ज्यादा मुझे इस भर्ती को पूरा करने की फ़िक्र हैं l उन्हें जल्दी ही धोलपुर के लिए रवाना होना था इसलिए वो वह से निकल गए ठीक उसी समय हमारे प्रतिनिधि दल ने आभार स्वरुप वहा राजेन्द्र राठौर जी के समर्थन में जम कर नारे लगाये l

इसके तुरंत बाद ही जानकारी मिली की राजेंद्र राठौर साहब ने धोलपुर जाना निरस्त कर दिया व चिकित्सा विभाग की भर्ती से जुड़े तमाम अधिकारियो व कर्मचारियों की एक आपात बैठक का आयोजन किया l  

अति. निदेशक (प्रशासन) दिनेश जांगिड जी - इसके बाद हमारे प्रतिनिधि दल ने अति. निदेशक (प्रशा.) दिनेश जांगिड जी से मुलाक़ात की l  दिनेश जी ने आपात बैठक की जानकारी देते हुए कहा की उन्हें तुरन्त ही मीटिंग में बुलाया गया हैं इसलिए उन्होंने शाम को मिलने का समय दिया और वो वह से मीटिंग के लिए निकल गए l

शाम को पुनः उनसे मिलने पर उन्होंने जानकारी दी की भर्ती प्रक्रिया अपने अंतिम चरण में हैं और एक माह में आपकी लिस्ट जारी कर दी जाएगी l

परियोजना निदेशक (एन आर एच एम ) वर्मा जी - परियोजना निदेशक महोदय वर्मा जी ने हाल ही में परियोजना निदेशक का चार्ज संभाला हैं ऐसे में यूनियन के प्रतिनिधि दल ने उनसे भी मुलाकात की व उन्हें नव वर्ष की हार्दिक बधाई दी जिसके पश्चात वर्मा जी ने भी प्रतिनिधि दल को SLP वापस लिए जाने की बधाई की l इसके पश्चात वही परियोजना निदेशक जी के चैम्बर में में ऐसा कुछ हुआ जिसके बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त कर आपको शाम को सूचित कर दिया जाएगा l वह हमारे प्रतिनिधि दल ने एनआरएचएम कर्मचारियों व इस भर्ती की खिलाफत में लगे कुछ स्वार्थि अधिकारियों की हरकतों को महसूस किया l आज शाम को आप लोगो को उनका परिचय व आज दिनांक तक उनके द्वारा एनआरएचएम नर्सेज के विरोध स्वरुप किये गए कृत्यों का उल्लेख किया जाएगा l

स्टेट प्रोग्राम मेनेजर डॉ. अनुराधा असवाल - एसपीएम मैडम जी से मुलाक़ात होने पर नव वर्ष की बधाई व SLP वापस लिए जाने के सम्बन्ध में ओपचारिकता के पश्चात उनसे एनआरएचएम कर्मचारियों से जुड़े कुछ पहलुओ पर जानकारी ली गई जिसके पश्चात फिर से उन्ही स्वार्थी एनआरएचएम अधिकारियो का नाम सामने आया जो हर बार इस भर्ती व एनआरएचएम कर्मचारियों को मिलने वाले हर फायदे पर कुण्डली मार कर बैठ जाते हैं l इन तत्वों की हरकतों के साथ इनका परिचय आज शाम को सार्वजानिक कर दिया जायेगा l

प्रमुख स्वास्थ्य सचिव मुकेश शर्मा जी - मुकेश शर्मा जी के लिए इतना परिचय देना ही काफी होगा की इनकी वजह से ही चहूतरफा विरोध के बाद भी इन्होने पशुधन सहायको की भर्ती लिस्ट जारी करवा दी थी l  पूर्व के सामान ही इस बार भी वे इस बार हमारी लिस्ट जारी करने के लिए उत्सुक हैं परन्तु कुछ स्वार्थि तत्वों व नियमो के कारण वे इस बार मजबूर हैं व इन्होने भी लिस्ट जारी होने में एक माह का समय लगने सम्बन्धी आशंकाए जताई l 

हमारी भर्ती को एक कच्चे धागे से खेचा जा रहा हैं ...... हमारी भर्ती पूरी ऊपर भी आ सकती हैं और निचे भी गिर सकती हैं l इसलिए यदि आप लोग लिस्ट जारी होने को लेकर आश्वस्त हैं तो हमारी सलाह हैं की आप इस प्रकार के किसी भरोसे में ना रहे और सिमित समय के लिए अपने घर का काम अपनी माँ, बहन, पत्नी अथवा बेटी के हवाले करे और स्वयं मर्द बनने का प्रयास करे तथा अपने प्रयास की सार्थकता जयपुर पधार कर साबित करे l आवश्यकतानुसार उचित समय पर आपको जयपुर बुलाया जाता रहेगा और यह क्रम भर्ती लिस्ट जारी होने तक चलता रहेगा l  


दिनांक - 05/01/2015                                आन्दोलन शुरू हो चूका हैं .... अपनी भागीदारी सुनिश्चित करे।

अब जबकि हमारी SLP वापस ली जा चुकी हैं हम फिर से वही आ गए है जहा से चले थे।
अब यह स्पष्ट हो गया हैं की अब या तो हमारी लिस्ट जारी होगी या यह भर्ती निरस्त होगी।
लिस्ट जारी कराने के लिए अब सरकार पर एक दम से भारी दबाव बनाना बहूत जरूरी हो गया हैं इसके लिए हमें कल दिनांक 06/01/2015 से ही जयपुर तक जाने का अनवरत क्रम शुरू करना ही होगा ..... परन्तु अभी भी हमारे पास बातूनी लोगो की भारी फोज हैं और काम करने वाले लोगो की भारी कमी हैं।

पिक्चर अभी भी बाकी हैं मेरे दोस्त।


मित्रो कुछ तकनीकी कारणों से यूनियन की www.nrhm-rajasthan-union.hpage.comकी वेबसाइट में अपडेट नही हो पा रहा है , अत: जागो नर्सेज की न्यूज को ही अधिकृत समझा जावे ।

कल सभी nrhm नर्सेज कर्मी अधिकाधिक सख्या में जयपुर पहुचे ।


दिनांक 05/01/2015 :                                      SLP हुई वापस : भर्ती की बाधा समाप्त

आज यूनियन प्रतिनिधियों की उपस्थिति में सुप्रीम कोर्ट में हुई सुनवाई में SLP क्रमांक 33653/2013 को सरकार द्वारा वापस ले लिया गया हैं।

अगली रणनीति : आज यूनियन के प्रतिनिधि भर्ती से सम्बंधित अधिकारियो से मिल कर उन्हें माल पहना कर उनका धन्यवाद् करेंगे व शीघ्र ही लिस्ट जारी किये जाने का अअगृह करेंगे।
कल दिनांक 06/01/2015 को यूनियन मंत्री जी से मिल कर अपनी भर्ती हेतु लिस्ट जारी करने हेतु दबाव बनाएंगे। जिसके पश्चात भर्ती से सम्बंधित अधिकारियो से मिल कर उन पर शीघ्र ही लिस्ट जारी किये जाने हेतु दबाव बनाया जायेगा।


दिनांक - 28/12/2014                  राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन, श्री गंगानगर के सम्बन्ध में l 

राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन, श्री गंगानगर के जिलाध्यक्ष विनोद शर्मा जी से यह जानकारी प्राप्त हुई हैं की वहा परमानेंट नर्सेज की एसोसिएशन शाखा श्री गंगानगर के कार्यकर्त्ता व प्रदेश कार्य कारिणी ने मिल कर श्री गंगानगर के संविदा नर्सेज (राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन, श्री गंगानगर) को तोड़ने हेतु कुछ निन्दनीय कृत्य किये गए हैं l 

राजस्थान नर्सेज एसोसिएशन (RNA) के प्रदेश व क्षेत्रीय कार्यकर्ताओ ने मिल कर संविदा नर्सेज की एकता को खण्डित करने का प्रयास करते हुए राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन, श्री गंगानगर के जिलाध्यक्ष श्री विनोद शर्मा जी के अतिरिक्त किसी अन्य व्यक्ति को जिलाध्यक्ष घोषित किया हैं जिस से वे आने वाले चुनावो में संविदा नर्सेज के हितो के विपरीत नियमित नर्सेज के हितो को सर्वोपरि रख सके l

इसके खण्डन हेतु राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन की प्रदेश कार्यकारिणी सर्व सम्मति से यह घोषणा करती हैं की राजस्थान एनआरएचएम नर्सेज एसोसिएशन, श्री गंगानगर के जिला अध्यक्ष श्री विनोद शर्मा जी ही रहेंगे व इन्हें पूर्व के समान ही अपने जिले से नियमितीकरण हेतु होने वाले आन्दोलन का नेतृत्व करना होगा व आन्दोलन के भावी उग्र रूप के लिए अपने जिले के समस्त संविदा/बेरोजगार नर्सेज की अखण्डता को बनाये रखना होगा l


दिनांक - 27/12/2014                                           5 जनवरी की कार्य योजना 

जैसा की इस बार 5 जनवरी को सुनवाई होने की उम्मीद की जा रही हैं यदि ऐसा होता हैं तो यूनियन का एक दल सुप्रीम कोर्ट में जाएगा और एक अतिरिक्त दल जयपुर में रहेगा।

यदि सुप्रीम कोर्ट से SLP वापस हो जाती हैं तो सुप्रीम कोर्ट में उपस्थित साथी कोर्ट से जल्द ही आर्डर प्राप्त करने का प्रयास करेंगे और आर्डर मिलते ही जयपुर स्थित अपने साथियो को फैक्स करेंगे। जयपुर में उपस्थित यूनियन प्रतिनिधि आर्डर प्राप्त होते ही उसे भर्ती से सम्बंधित अधिकारियो को सौप कर उनसे जल्द ही लिस्ट जारी करने की अपील करेंगे।

यह यूनियन की कार्य योजना मात्र हैं किसी प्रकार का आव्हान नहीं हैं किसी आन्दोलन की संभावित परिस्थितियों में ही लोगो को जयपुर आने का आव्हान किया जायेगा फिलहाल 5 जनवरी को यूनियन से जुड़े लोग ही जयपुर पधारे।

निम्न प्रकार के लोग जयपुर ना पधारे -
● ऐसे लोग जो एकता के नाम पर अपने चहेते लोगो को यूनियन के प्रयासों का लाभ दिलाना चाहते हो ।
● ऐसे लोग जो ऐसे अवसर पर अधिकारियो से वेतन वृद्धि सम्बन्धी बात करना चाहते हो।
● ऐसे लोग जिनका लक्ष्य यूनियन प्रतिनिधियों के साथ अधिकारियो के चैम्बर में घुस कर गोपनीय खबरे हासिल करना मात्र हैं। ऐसे लोगो की भीड़ की वजह सेे अधिकारी अपनी जिम्मेदारी से बचने का प्रयास कर सकते हैं।

यदि 5 जनवरी को अपनी सुनवाई होती हैं तो इस कार्य योजना की क्रियन्वियति की जायेगी परन्तु यदि किसी कारणवश सुनवाई नहीं होती तो कार्य योजना को परिस्थितिवश बदल दिया जाएगा।


CAUSELIST FOR Monday 5th January 2015
Court No. 14
HON'BLE MR. JUSTICE A.K. SIKRI
Sr.
No. Case No. Party Petitioner
Advocates
Respondent
Advocates
33. I.A.
2/2014 IN
SLP(C)
No.
33653/2013
STATE OF
RAJASTHAN
& ORS
Vs.
MAHENDER
KUMAR


दिनांक 24/12/2014 SLP की सुनवाई                दिनांक 5 जनवरी को SLP वापस लेने के लिए होगी सुनवाई।

CHAMBERS LIST FOR 05-01-2015
COURT NO. 14

SUPREME COURT OF INDIA
33. I.A. 2/2014 IN SLP(C) NO.
33653/2013
XV A/N-H
STATE OF RAJASTHAN & ORS
Vs.
MAHENDER KUMAR
( FOR WITHDRAWAL OF SLP)
MS. RUCHI KOHLI

SLP वापस लेने के लिए सुप्रीम कोर्ट में हमारा केस रजिस्टर होने के बाद कभी भी हमारे केस की सुनवाई नहीं हो पायी पर इस 5 जनवरी को हमारी SLP वापस लेने की सुनवाई हो सकती हैं।
अब देखते हैं ......... अपना नसीब ।
भर्ती या आन्दोलन ।


जागो नर्सेज टीम -

माणिक मुखर्जी, जयपुर 
प्रमोद मीणा, कोटा 
सीता राम चौधरी, जयपुर 
शेख अयाज़, झालावाड 
फिलहाल यही चार सदस्य जागो नर्सेज पेज को चला रहे हैं l सभी के पास अपनी अपनी जिम्मेदारिया हैं l 

सही न्यूज़ का आधार

जागो नर्सेज की टीम का भर्ती से सम्बंधित प्रत्येक गतिविधि में सशरीर उपस्थित होना अनिवार्य हैंl जिससे जागो नर्सेज की कोई न्यूज़ कभी गलत ना हो सके परन्तु सरकार द्वारा अपनी बातो से पलटने पर जागो नर्सेज की कोई जिम्मेदारी नहीं होती l 

लक्ष्य

जागो नर्सेज का लक्ष्य इस भर्ती से सम्बंधित खबरों का प्रकाशन करना नहीं हैं अपितु किसी भी प्रकार से इस भर्ती को पूरा करने के लिए प्रयास करना हैं l 
इस पेज का लक्ष्य लोगो को सशरीर इस आन्दोलन से जोड़ना हैं ना की चैटिंग करना या नेतागिरी करना l

जो लोग इस आन्दोलन में सशरीर जुड़े हुए नहीं हैं सिर्फ फ़ोन कॉल या चैटिंग के जरिये इस आन्दोलन में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करते हैं ऐसे लोग कभी भी जागो नर्सेज की Good Book में शामिल नहीं हो सकते l


दिनांक - 20/12/2014 :                                     दिनांक 19/12/2014 : प्रथम चरण की मीटिंग

दिनांक 18 दिसम्बर को स्वास्थ्य मंत्री राजेंद्र राठौर जी की अध्यक्षता में जो मीटिंग हुई थी उसमे राठौर साहब ने विशिष्ठ सचिव एवं निदेशक एन आर एच एम नवीन जैन की अध्यक्षता में एक टीम का गठन किया था जिसकी प्रथम चरण की मीटिंग कल दिनांक 19 दिसम्बर को अति. निदेशक महोदय के चैम्बर में हुई l 

मीटिंग का उद्देश्य :- 

इस मीटिंग का उद्देश्य यह था की स्वास्थ्य मन्त्री राजेंद्र राठौर जी के निर्देशानुसार राजस्थान एन आर एच एम नर्सेज एसोसिएशन (यूनियन) की मांग के अनुसार इस भर्ती प्रक्रिया को शीघ्रता से पूर्ण करना l 

मीटिंग में उपस्थित महानुभव (गठित टीम के उपस्थित सदस्य) :-

★विशिष्ठ सचिव एवं निदेशक एन आर एच एम नवीन जैन
★ अति. निदेशक दिनेश कुमार जांगिड
★ परियोजना निदेशक किसना राम इसरवाल
★ विधि परामर्शदाता (Low Consultant)
★ मानव संसाधन परामर्शदाता (HRD Consultant)
★ अभिनीत भारद्वाज
★ सीताराम चौधरी

मीटिंग का संक्षित विवरण :-

★ मीटिंग लगभग 1 घंटा 15 मिनट तक चली l 
★ मीटिंग शुरू करते हुए HRD कंसलटेंट ने अपना प्रेजेंटेशन देना शुरू किया l 
★ अपने प्रेजेंटेशन में HRD कंसलटेंट ने दो मुख्य तथ्य रखे -
1. ए जी नरपत मल लोड़ा के अनुसार SLP वापस लिए बिना लिस्ट जारी नहीं की जा सकती हैं और SLP वापस लेने की एप्लीकेशन सुप्रीम कोर्ट द्वारा स्वीकृत भी की जा चुकी हैं इसलिए सिर्फ अपनी सुनवाई का इन्तजार करे और SLP वापस लेते हैं लिस्ट जारी की जा सकती हैं l
2. उनका अगला तथ्य था की इस भर्ती को रद्द कर के और RRHM वाले पैटर्न पर भी भर्ती की जा सकती हैं l
★ इनके भर्ती रद्द कर के फिर से नए सिरे से भर्ती करने के प्रस्ताव को यूनियन के प्रतिनिधि व निदेशक एन आर एच एम नवीन जैन ने सिरे से ख़ारिज कर दिया l नवीन जैन जी ने कहा की फिर से भर्ती करने के लिए सरकार को बहूत सारे कर्मचारियों व प्रक्रियाओ से गुजरना होगा इसलिए इस भर्ती को पूरा करना ही श्रेष्ठ रहेगा l 
★ HRD कंसलटेंट के पहले प्रस्ताव पर मुकेश शर्मा जी ने कहा की जब उन्होंने पशुधन सहायको की लिस्ट जारी की थी तब सुप्रीम कोर्ट में SLP नहीं लगी थी इसलिए अब उन्हें नहीं पता की सुप्रीम कोर्ट में SLP लगे होने पर भी लिस्ट जारी की जा सकती हैं अथवा नहीं इसके जवाब में यूनियन के प्रतिनिधियों ने एक "महत्वपूर्ण तथ्य" मीटिंग में रख कर कहा की "इस तथ्य" के आधार पर सुप्रीम कोर्ट से SLP वापस लिए बिना भी सरकार द्वारा लिस्ट जारी की जा सकती हैं l 
★ यूनियन द्वारा पेश किये गए "तथ्य" से मीटिंग में सम्मिलित महानुभावो ने मिली जुली प्रतिक्रिया दी l पर इस बात पर सभी सहमत थे की यदि यह "तथ्य" सही हैं तो SLP वापस लिए बिना ही लिस्ट जारी की जा सकती हैं l
★ इस मीटिंग को सम्बंधित "तथ्य" की जांच के लिए एक हफ्ते का समय दिया गया और सरकार व यूनियन अपने अपने स्तर पर इस तथ्य की सत्यता को प्रमाणित कर सके l

मीटिंग का निष्कर्ष :-

★ यदि सम्बंधित तथ्य को सरकार या यूनियन द्वारा प्रमाणित किया जा सका तो हो सकता हैं की जल्द ही लिस्ट जारी हो जाये l 
★ यदि हमारे केस की सुनवाई हो जाती हैं तो या तो SLP वापस ले कर लिस्ट जारी की जा सकती हैं या फिर सम्बंधित तथ्य के आधार पर कोर्ट से लिखित में लिस्ट जारी करने की परमिशन ली जा सकती हैं ऐसे में आचार संहिता के दौरान भी लिस्ट जारी हो सकती हैं पर इसमें सरकार की नियत भी होनी चाहिए l

संशय :-

★ यूनियन प्रयास करने की गारन्टी दे सकती हैं परन्तु सफलता मिलना या ना मिलना पूर्ण रूप से भाग्य व सरकार की इच्छा पर ही निर्भर हैं l


दिनांक - 19/12/2014 :                           स्वास्थ्य मन्त्री जी व समस्त अधिकारियो के साथ यूनियन की मीटिंग हुई l 

मन्त्री जी से हुई वार्ता के अनुसार कल दिनांक 18 दिसम्बर को राजेंद्र राठौर जी की अध्यक्षता में सिफु में एक आधिकारिक मीटिंग की गई l
स्वास्थ्य मंत्री जी के अतिरिक्त इस मीटिंग में समस्त उच्च अधिकारी व देवाराम चौधरी जी समेत यूनियन के पदाधिकारी उपस्थित थे l 

इस मीटिंग में निम्न निष्कर्ष लिए गए -

★ सुप्रीम कोर्ट ने SLP के वापस लिए जाने की एप्लीकेशन को स्वीकार कर लिया हैं परन्तु जब तक सुनवाई नहीं होती सुप्रीम कोर्ट में SLP अपने अस्तित्व में रहेगी l 

★ बगैर SLP वापस लिए भर्ती लिस्ट जारी की जाये परन्तु इसके लिए सिर्फ एक अति महत्वपूर्ण काम करना अभी शेष हैं जिसे यूनियन 1-2 दिनों में पूरा करने का प्रयास करेगी l 

★ राजेंद्र राठौर साहब ने अधिकारियो को कहा की यदि इनकी लिस्ट अभी जारी की जा सकती हैं तो मैं आप जहा कहेंगे वह साइन करने को तैयार हूँ l

★ पशुधन सहायको की लिस्ट सुप्रीम कोर्ट में SLP दायर करने से पूर्ण वर्तमान प्रमुख शासन सचिव (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य) मुकेश शर्मा जी द्वारा जारी की गई थी उनका कहना हैं की तब तक सुप्रीम कोर्ट में SLP नहीं लगायी गई थी परन्तु अब भी लिस्ट जारी करने की संभावना हैं l

★ यूनियन 1-2 दिनों में कुछ सार्थक परिणाम प्राप्त कर सकती हैं जिसके बाद सिर्फ सरकार द्वारा लिस्ट जारी किया जाना ही शेष रह जायेगा l कल इस मीटिंग के बाद स्वास्थ्य मंत्री जी दिल्ली के लिए रवाना हो गए जहा वह संविदाकर्मियो के हित में कुछ प्रयास करेंगे जिसकी जानकरी फिलहाल सार्वजनिक नहीं की जा रही हैं l 

संशय - सरकार कभी भी अपनी भर्ती को अटकाने की बात नहीं करती परन्तु फिर भी अपनी भर्ती पूरी नहीं होती l यूनियन अपने प्रयासों को अनवरत जारी रखे हुए हैं परन्तु इस भर्ती को पूरा करने के लिए भाग्य और सरकार की मंशा का सकारात्मक होना ही सबसे जरूरी हैं l


दिनांक - 17/12/2014 :                                             यूनियन एवं साथियों के संगठित प्रयास

आज देवाराम चौधरी, अभिनीत भारद्वाज, मनफूल पूनिया, सीता राम चौधरी, राजीव मीना (आयुर्वेद फ्रेशर नर्सेज एसोसिएशन), मूल शंकर जी, डालु राम जी, ब्रह्म प्रकाश जी, राघव प्रताप जी, विक्रम बरसानिया, रविन्द्र गुर्जर, विजय शर्मा, महेश शर्मा, मनोज शर्मा, सूर्य प्रकाश शर्मा, संतोष कुमार, गौरव सिंघल, जीतेन्द्र शर्मा, गोविन्द गुप्ता, रिंकू जी,शंकर जी, गिरिराज जी, ऋषिराज, प्रमोद मीणा, आयुर्वेद फ्रेशर नर्सेज, मेडिकल कॉलेज के साथी, जयपुर, बाडमेर, दौसा, पाली, नागौर, करोली, टोंक, सीकर, झुंझुनू, बीकानेर, हिण्डोन एवं अन्य समस्त साथियों का आभार जिन्होंने बिना किसी आवाहन के ही आज जयपुर पहुच कर संघर्ष में अपनी भागीदारी दी।

सन्दर्भ :- अटकी भर्ती प्रक्रिया को पूरा करना, 5 दिसम्बर को NRHM की नई भर्ती हेतु जारी लैटर का अवलोकन, बगैर SLP वापस लिए भर्ती की सम्भावना का मन्थन।

स्वास्थ्य मंत्री राजेन्द्र राठौर जी - देवाराम चौधरी जी के साथ समस्त साथियों ने सुबह 6:30 बजे स्वास्थ्य मंत्री जी से मुलाकात की परन्तु उन्हें नवलगढ़ (झुंझुनू) के लिए निकलना था इसलिए उन्होंने संक्षिप्त वार्ता में भर्ती शीघ्र पूरी किये जाने की जानकारी देते हुए अगली मीटिंग का समय तय कर तसल्ली से वार्ता करने के लिए कहा।

मुख्यमन्त्री वसुन्धरा राजे जी - सुबह 10 बजे यूनियन के प्रतिनिधि दल ने मुख्यमन्त्री निवास पर पहुच कर मुख्यमन्त्री महोदया से यूनियन की पर्सनल मीटिंग की व्यवस्था की।

अति. निदेशक नीरज के. पवन, परियोजना निदेशक किसना राम इसरवाल, निदेशक एन आर एच एम नवीन जैन, केस ऑफिसर प्रताप सिंह दुत्तड, प्रमुख शासन सचीव (चिकित्सा एवं स्वा.) मुकेश शर्मा जी से वार्ता -
उक्त सन्दर्भ में बात करने पर उन्होंने कहा की भर्ती प्रक्रिया अपने अंतिम चरण में हैं जिसे शीघ्र ही पूरा किया जायेगा। इस भर्ती को SLP वापस लेकर ही पूरा किया जा रहा हैं। आगामी तिथि पर होने वाली सुनवाई पर सभी अधिकारियो ने एक सामान रूप से स्पष्ट शब्दों में SLP का वापस लिया जाना सुनिश्चित किया। 1

बगैर SLP वापस लिए सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अधीन 15 प्रतिशत बोनस अंको के आधार पर भर्ती किये जाने के संदर्भ में मुकेश शर्मा जी ने स्पष्ट प्रक्रिया देते हुए कहा की उन्होंने ही स्वविवेक के आधार पर राजस्थान में पहली बार 15 प्रतिशत बोनस अंको के आधार पर पशु विभाग की भर्ती की थी जिस समय हमारे विभाग की लापरवाही की वजह से अपनी भर्ती अटक गयी थी। उन्होंने यह जानकारी भी दी की चिकित्सा विभाग में आते ही उन्होंने एक मीटिंग लेकर अपनी भर्ती को हाई कोर्ट के फैसले के आधार पर 15 प्रतिशत बोनस अंको से सुप्रीम कोर्ट के अधीन लिस्ट जारी करने का प4अस्तव दिया था जिससे इस अटकी हुई भर्ती को जल्द पूरा किया जा सके परन्तु अन्य केसेस के टैग्ड होने व SLP वापसी की प्रबल संभावना के चलते उन्होंने अधिवक्ता जनरल नरपत मॉल लोड़ा को निर्देश देकर SLP वापसी को सुनिश्चित किया।

नीरज के. पवन जी ने नीतू बारुपाल जी से दूरभाष पर वार्ता कर 5 दिसम्बर को जारी लैटर की वास्तविकता स्पष्ट करी की उक्त भर्ती को NRHM के तहत किया जा रहा हैं जिससे अटकी हुई भर्ती का कोई लेना देना नहीं हैं परन्तु यह यूनियन के अनुसार यह संशय का विषय हैं की यदि सरकार इस प्रकार संविदा कर्मियों को नियुक्ति दे रही हैं तो उन्हें अटकी हुई भर्ती को पूरा करने की क्या जरूरत रहेगी। 

इस भर्ती को पूरा करने के लिए यूनियन को शीघ्र ही स्वास्थ्य मन्त्री जी व मुख्यमन्त्री महोदया से जल्द ही आधिकारिक मीटिंग करनी होगी इसके अतिरिक्त आज यूनियन ने अधिकारियो को जनाक्रोष से अवगत कराते हुए जल्द भर्ती करने का अल्टीमेटम भी दिया।


दिनांक 16/12/2014 :                                         यूनियन देगी अधिकारियो को अल्टीमेटम l 

कल दिनांक 17/12/2014 को देवाराम चौधरी जी के साथ यूनियन के महत्वपूर्ण पदाधिकारी जयपुर पहुच कर भर्ती से सम्बंधित अधिकारियो से मिल कर भर्ती प्रक्रिया के संधर्भ में विशेष वार्ता करेंगे l  सुप्रीम कोर्ट में SLP की आँख मिचोली के चलते सरकार ने इन भर्तियो को लटका कर रखा हैं l इसके अतिरिक्त सरकार अपनी भर्तियो को निरस्त कर संविदा पर नयी भर्तिया भी निकाल रही हैं जिस से राजस्थान के बेरोजगारों व वर्तमान संविदाकर्मियो के हितो पर कुठाराघात हो रहा हैं l

ऐसा नहीं हैं की सुप्रीम कोर्ट में अटकी इन  भर्तियो के निस्तारण हेतु कोई उपाय नहीं किया जा सकता परन्तु सरकार की मंशा ही नहीं हैं की इन भर्तियो को पूरा किया जाए इसलिए यूनियन द्वारा सरकार को तुरन्त ही इस भर्ती प्रक्रिया के निस्तारण हेतु आग्रह किया जायेगा और जल्द ही इस भर्ती के पूरा ना किये जाने पर संघर्ष को उग्र करने का अल्टीमेटम भी दिया जायेगा l

यदि किसी संविदाकर्मी को लगता हैं की इस भर्ती के निस्तारण के लिए यूनियन द्वारा उचित प्रयास नहीं किये जा रहे हैं तो ऐसे लोगो से यूनियन का निवेदन हैं की आप अपने तरीके से अपने जमीनी प्रयास करे ..... बातें नहीं .......... जमीनी प्रयास l    


दिनांक 04/12/2014 :                                         कल नहीं होगी SLP वापसी हेतु सुनवाई l 

कल सुप्रीम कोर्ट में किसी भी अतिरिक्त जज के नहीं होने के कारण कोई चैम्बर लिस्ट जारी नहीं की गई हैं जिस कारण कल अतिरिक्त जज द्वारा किसी भी प्रकार की सुनवाई नहीं की जायेगी l अतः कल हमारी SLP की सुनवाई नहीं होगी l इसके लिए सुप्रीम कोर्ट अगले हफ्ते की सारिणी में अपने केस को सूचीबद्द कर सकती हैं l आधिकारिक जानकारी के लिए यूनियन की वेब साईट (www.nrhm-rajasthan-union.hpage.com) व जागो नर्सेज (www.facebook.com/jagonurses) पर देखते रहे व भ्रामक खबरों से बचे l

आज फिर से किसी मुर्ख द्वारा यह भ्रामक खबर फैलाई गयी की आज नरेगा की SLP वापस ले ली गयी हैं व कल किसी भी हालत में चिकित्सा विभाग की SLP भी वापस ले ली जाएगीl  इसी प्रकार पहले भी देवाराम चौधरी जी की SLP वापस लेने की भी गलत खबर उड़ाई गयी थी l  जबकि आज सुप्रीम कोर्ट में ऐसा कुछ भी नहीं हुआ l वैसे भी ऐसी कोई SLP वापस ली ही नहीं जा सकती हैं जिसकी फाइल ही नहीं लगाई गई हो l ऐसा कोई व्यक्ति सुप्रीम कोर्ट में चल रहे केस की सही जानकारी दे ही नहीं  सकता हैं जिसने कभी सुप्रीम कोर्ट, दिल्ली व हाई कोर्ट, जोधपुर का गेट तक नहीं देखा हो l

आज तक सुप्रीम कोर्ट व हाई कोर्ट, जोधपुर की प्रत्येक सुनवाई में यूनियन के वकील व प्रतिनिधि उपस्थित रहे हैं l यूनियन द्वारा हर सप्ताह इस भर्ती से सम्बंधित अधिकारियो व यथा संभव मंत्रियो से अनवरत संवाद स्थापित किया जाता रहा हैं परन्तु पिछले कुछ समय से विशेष प्रायोजन हेतु यूनियन ने लोगो को जानकारी देने पर अल्प कालीन विराम लगा दिया था जिसका कारण SLP के वापस लिए जाने के पश्चात ही बताया जाएगा l यूनियन का लक्ष्य किसी भी प्रकार से लिस्ट जारी करवाना हैं परन्तु कुछ लोगो को इस लिस्ट से ज्यादा नेतागिरी से प्यार हैं इसलिए जब शांत रहने का समय था उन्होंने बेवजह ही शोर मचा कर इस भर्ती को खतरे में डाल दिया था l

हर वो व्यक्ति जो सच में इस भर्ती के लिए जमीनी संघर्ष कर रहा हैं वो इस यूनियन में शामिल हैं शेष रहे व्यक्तियों में से जिसे भी नेतागिरी करने का ज्यादा शौक हैं वो यूनियन की बुराई कर कर, कोर्ट से सम्बंधित गलत जानकारिय लोगो को दे कर या फिर इस अति संवेदनशील समय में NRHM कर्मियों के लिए वेतन वृद्धि की मांग कर कर मेडिकल कॉलेज के संविदा कर्मियों व फ्रेशर को बेवकूफ बना रहे हैं l इन्टरनेट पर चैटिंग करने से संघर्ष नहीं होता संघर्ष करने के लिए सच बोलना और मेहनत करना ही जरूरी हैं l            


दिनांक 02/12/2014 :                                         SLP वापसी हेतु होगी सुनवाई l 

सुप्रीम कोर्ट में लंबित भर्तियो के निराकरण हेतु दिनांक 3 दिसम्बर से 5 दिसम्बर के मध्य SLP वापसी हेतु सुनवाई हो सकती हैं l 

जिस दिन भी यह सुनवाई होगी उसी दिन यूनियन के अध्यक्ष देवाराम जी चौधरी व अभिनीत भारद्वाज, मनफूल पूनिया, भंवर लाल जी चौधरी व सीताराम चौधरी सहित यूनियन के सभी कर्मठ कार्यकर्त्ता जयपुर में उपस्थित रहेंगे l इस प्रकार यदि SLP वापस हो जाती हैं तो उसी दिन यूनियन द्वारा सम्बंधित अधिकारियो व मंत्रियो पर तुरंत लिस्ट जारी करने हेतु दबाव बनाया जा सकेगा l    


दिनांक 01/11/2014 :                                   निदेशालय में भर्ती प्रक्रिया पर हुई मीटिंग 

कल दिनांक 31/10/2014 को शाम 5 बजे निदेशालय में नए प्रिंसिपल हेल्थ सेक्रेटरी मुकेश शर्मा जी ने इस भर्ती प्रक्रिया के शीघ्र ही स्थायी समाधान किये जाने के लिए एक ख़ास मीटिंग की l कल यूनियन के प्रतिनिधियों को जैसे ही इस मीटिंग के बारे में पता चला तो यूनियन के प्रतिनिधियो का एक दल अभिनीत भारद्वाज जी की अध्यक्षता में प्रिंसिपल हेल्थ सेक्रेटरी मुकेश शर्मा जी व भर्ती से सम्बंधित सभी अधिकारियो से मिलने पंहुचाl वह जाने पर पता चला की इस भर्ती से सम्बंधित सभी अधिकारी व कर्मचारी इस मीटिंग की तैय्यारियो में व्यक्ति बहूत ज्यादा व्यस्त हैं l इसलिए यूनियन ने अधिकारियो से मिलने की अपेक्षा इस मीटिंग का निष्कर्ष पता करने का निश्चय किया l

शाम 5 बजे तक भर्ती से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण उच्च अधिकारी सभी दस्तावेजो समेत प्रिंसिपल हेल्थ सेक्रेटरी मुकेश शर्मा जी के समक्ष उपस्थित हुए l जहा मुकेश शर्मा जी ने काफी गर्म अंदाज में सभी अधिकारियो को इस भर्ती के अटकने का कारण माना व इस भर्ती की समस्या को जल्द पूरा किये जाने के निर्देश दिए l

महत्वपूर्ण तथ्य -

  • सरकार इस भर्ती के अटकने से परेशान तो हैं पर यह भी जरूरी नहीं हैं की वो इसका समाधान लिस्ट जारी कर के ही करे यह भी हो सकता हैं की सुप्रीम कोर्ट से SLP वापस लिए जाने के पश्चात सरकार की भर्ती की समस्या को जड़ से मिटने के लिए किसी प्रकार इस भर्ती को असंवेधानिक घोषित करवा कर इस भर्ती को ही निरस्त करवा दे और हमें शीघ्र ही किसी नयी प्रक्रिया से भर्ती पूरी करने का झूठा आश्वासन भी दे दिया जाये l 
  • जरूरी नहीं की इस मीटिंग में SLP वापस लिए जाने के पश्चात नर्सेज की लिस्ट जल्दी ही जारी किये जाने का निर्णय लिया गया हो इसलिए सभी संविदाकर्मियो/फ्रेशर से यह निवेदन हैं की SLP वापस होने के तुरंत बाद यूनियन द्वारा सरकार पर उचित दबाव बनाने के लिए किये जाने वाले प्रयासों में अपनी सहभागिता सुनिश्चित करे l       

दिनांक 31/10/2014 :                                   18/11/2014 को होगी SLP की सुनवाई 

दिनांक 27/10/2014 को SLP वापसी के लिए हुई सुनवाई में न्यायाधीश गोपाल गौडा जी ने SLP वापस लेने के लिए एक हफ्ते का समय दिया था l इस केस से सम्बंधित दो सरकारी एवं एक निजी वकीलों से यूनियन ने लगातार संवाद स्थापित किया हुआ हैं जिनके द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार अब यही न्यायाधीश गोपाल गौडा जी दिनांक 18/11/2014 को फिर से SLP वापस लेने की सुनवाई करेंगे l

सभी साथियों से अनुरोध हैं की हमारे अधिकतर साथी सुप्रीम कोर्ट की वेब साईट से जानकारिया लेने के चक्कर में स्वयं भी भ्रमित होते हैं व अन्य साथियों को भी भ्रमित करते हैं इसलिए आप सभी लोग यूनियन की वेब साईट व जागो नर्सेज (फेसबुक पेज) पर नियमित रूप से सच्ची व प्रमाणित जानकारिया लेते रहे l व निम्न प्रकार की भ्रांतियों से बचे -

  • भर्ती से सम्बंधित SLP वापसी की सुनवाई में मजिस्ट्रेट साहब ने कभी नहीं कहा की सभी विभागों की SLP वापस होने पर ही अपनी SLP वापस होगी l
  • वर्तमान परिस्थितियों में जब तक SLP वापस नहीं हो जाती यह भर्ती नहीं की जा सकती l 
  • जब तक SLP वापस नहीं हो जाती किसी प्रकार का जन आन्दोलन करना मुर्खता होगी इसलिए यूनियन उचित रणनीति के साथ आन्दोलन के लिए तैयार हैं परन्तु SLP वापस नहीं होने तक उचित समय नहीं हैं l
  • इस भर्ती के प्रकाशित होने से पूर्व से ही यूनियन अपने अनवरत प्रयास कर रही हैं और इस भर्ती के कोर्ट में अटकने पर भी आज तक की हुई हर सुनवाई (हाई कोर्ट, जोधपुर व सुप्रीम कोर्ट, दिल्ली) में यूनियन के प्रतिनिधि उपस्थित रहे हैं व हर जमीनी आन्दोलन का समय समय पर आगाज किया गया हैं इसलिए व्यर्थ के बडबोले व्यक्तियो जो सभी महत्वपूर्ण घटनाओ में उपस्थित ही नहीं रहे हो उनकी बातो में आ कर अपनी एकता व सामर्थ्य का नाश ना होने दे l भरोसा रखे और सशरीर (not online) साथ दे l   

दिनांक 28/10/2014 :                                   27/10 की सुनवाई (SLP वापसी का सफ़र) 

दिनांक 27/10/2014 को SLP वापसी के लिए हुई सुनवाई में न्यायाधीश गोपाल गौडा जी ने SLP वापस लेने के लिए एक हफ्ते का समय दिया हैं l ऐसे कितने ही हफ्ते हम लोग अभी तक इसी इन्तजार में गुजार चुके हैं l देखते हैं की अगले हफ्ते क्या होता हैं l

देखना यह भी हैं की यदि SLP वापस हो जाती हैं तो आचार संहिता के दौरान अधिकारी किस प्रकार इस भर्ती को पूरा करने में सहयोग करते हैं l


दिनांक 15/10/2014 :                                   SL

go to top